Hindi News »Bihar »Patna» Muzaffarpur Shelter Home Case Social Welfare Minister Husband In Touch With Brajesh Thakur

मुजफ्फरपुर कांड: सीडीआर की जांच में मिला सुराग, मंत्री मंजू वर्मा के पति के संपर्क में था ब्रजेश ठाकुर; मोबाइल पर होती थी बात

पांच माह में ब्रजेश और चंद्रशेखर के बीच हुई थी 17 बार बातचीत

‌Bhaskar News | Last Modified - Aug 08, 2018, 05:14 AM IST

मुजफ्फरपुर कांड: सीडीआर की जांच में मिला सुराग, मंत्री मंजू वर्मा के पति के संपर्क में था ब्रजेश ठाकुर; मोबाइल पर होती थी बात

पटना.मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड का संचालक ब्रजेश ठाकुर लगातार समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा के साथ संपर्क में बना हुआ था। इस वर्ष जनवरी से मई तक 5 महीने में उसने 17 बार मोबाइल पर बातचीत की थी। ब्रजेश ठाकुर के मोबाइल नंबरों की सीडीआर (कॉल डिटेल्स रिकॉर्ड) की जांच में यह बात सामने आई है। इसके साथ ही सीबीआई की तफ्तीश में नया मोड़ आ गया है। यह भी पता चला है दोनों के बीच भेंट-मुलाकात भी होती रहती थी। चंद्रशेखर वर्मा व ब्रजेश ठाकुर के एक साथ दिल्ली टूर करने की भी बात सामने आ रही है।

ब्रजेश के ड्राइवर ने बताई मुलाकात की बात:सूत्रों के मुताबिक जांच टीम के अफसरों द्वारा पूछताछ के दौरान ब्रजेश के ड्राइवर ने भी चंद्रशेखर वर्मा के साथ मुलाकात की बात कही है। जांच टीम उस ट्रेवल एजेंसी के बारे में भी पता लगाने में जुटी है, जहां से दोनों के टूर से जुड़े एयर टिकट आदि बुक कराए गए थे। बहरहाल ब्रजेश के साथ ही अन्य आरोपियों के सीडीआर से जुड़े हर पहलू को खंगाला जा रहा है।

विभाग ने काम दिया था, इसलिए फोन करता था :ब्रजेश ठाकुर के साथ होने वाली बातचीत को लेकर मंत्री मंजू वर्मा ने कहा कि राजनीतिक-सामाजिक जीवन में किसी का भी फोन अटेंड कर सकते हैं। हर कॉल अकेले नहीं रिसीव करते हैं। पति के अलावा ड्राइवर, गार्ड आदि भी फोन रिसीव करते हैं। ब्रजेश ठाकुर को विभाग ने काम दिया था। इसलिए वह फोन पर बात करता था। कॉल करने वाले कैसा है, चोर-क्रिमिनल या इंसान है। कैसे पता चलेगा? ... वैसे ब्रजेश की मोबाइल कई लोगों से बात हुई होगी। फिर सिर्फ मंजू वर्मा के पति को ही क्यों टारगेट बनाया जा रहा है? पिछड़ी जाति के होने के कारण हमें निशाना बनाया जा रहा है। फोन पर बात होने से कोई दोषी नहीं हो जाता। महिला गृह जाने या अन्य आरोपों के बाबत कोई वीडियो क्लिप या सबूत है तो सामने लाएं।

सीबीआई को मिले चार पुलिस अफसर:मंगलवार को सीबीआई के एसपी जेपी मिश्रा के साथ कुछ अफसरों की टीम भी मुजफ्फरपुर पहुंच गई। कुछ अफसर पहले ही वहां पहुंच कर पड़ोसियों से पूछताछ के साथ ही अन्य टास्क पर लग चुके हैं। इधर सीबीआई की मांग पर जांच में मदद के लिए बिहार पुलिस ने 4 अफसर उपलब्ध करा दिए हैं। आने वाले दिनों में कुछ आैर अफसर भी दिए जाएंगे।

ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु की तलाश हुई तेज:जांच टीम ने ब्रजेश की सबसे बड़ी राजदार मधु कुमारी की तलाश तेज कर दी है। उसके हर संभावित ठिकानों पर पैनी नजर रखी जा रही है। साथ ही उसके करीबियों से भी जानकारी हासिल करने की कोशिश की जा रही है। करीब डेढ़ दशक पहले ब्रजेश ने मधु को रेड लाइट एरिया से बाहर निकाला था। फिर वह ब्रजेश की करीबी बन गई आैर साहू रोड स्थित बालिका गृह के संचालन में अहम रोल निभाती थी। इसके अलावा ब्रजेश के अन्य संगठनों के संचालन के साथ वह अपना एनजीओ भी चलाती थी। हालांकि मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड का मामला दर्ज होने के बाद से ही मधु अंडरग्राउंड है।

सीबीआई ने लड़कियों की मेडिकल जांच की जानकारी ली:मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में शामिल लड़कियों की मेडिकल जांच पीएमसीएच में हुई थी। इन लड़कियों की जांच रिपोर्ट की जानकारी लेने के लिए सीबीआई की टीम मंगलवार को पीएमसीएच पहुंची हुई थी। सीबीआई ने उपाधीक्षक डॉ. रंजीत जमैयार के कार्यालय में उन सभी लोगों से जानकारी ली जो लोग लड़कियों के मेडिकल जांच में शामिल थे। डॉ. जमैयार ने बताया कि उन सभी जांच करने वालों को यहीं बुला लिया गया था। सीबीआई ने उन सभी बच्चियों की रिपोर्ट देखी और उसकी जानकारी ली। उपाधीक्षक ने बताया कि पीएमसीएच में बालिका गृह की 29 लड़कियों की मेडिकल जांच की गई थी। सीबीआई की दो महिला अधिकारी जांच करने के लिए आई थीं। सीबीआई ने बच्चियों की मेडिकल जांच से संबंधित कागजात भी देखे और जांच करने वाले से विभिन्न जानकारी भी ली।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×