पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पूरब देस के टोना और कमजोर पानी से उदास हुई नई दुल्हनिया

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी रिपोर्टर . पटना

....ए लीजिए जनाब, दोस्त ने थोड़ी तारीफ क्या कर दी कोलकाता की, साहब का मन वहां जाने को मचल उठा। कोलकाता देखने की इतनी बेचैनी। हमारी नायिका के पैर का महावर भी ठीक से सूखा नहीं और जुदाई की बात सामने आ गई। पूरब देस में टोना बेसी बा, पानी भी बहुत कमजोर। ऐसे में नायक कैसे रह पाएगा, पर सैंया की जिद की आगे नायिका की एक न चली और वो नई नवेली दुल्हन को छोड़ परदेस भाग गया। छोड़ गया तो अपने पीछे कई कहानियां। रोजगार के लिए अपना गांव-घर छूटता है तो दूसरी ओर मानवीय रिश्ते भी। पलायन का दर्द और उससे उपजी विभीषिका भोजपुरी के शेक्सपीयर भिखारी ठाकुर के नाटक में दिखा। ठेठ देहाती और भोजपुरी अंदाज में कलाकारों की इस प्रस्तुति को दर्शकों ने खूब पसंद किया। गुरुवार को प्रेमचंद रंगशाला में निर्माण कला मंच की ओर से रंग-जलसा कार्यक्रम का समापन किया गया। समापन में भिखारी ठाकुर की लिखी और संजय उपाध्याय की निर्देशित बिदेसिया नाटक का मंचन किया गया।

बिदेसी दूसरी औरत से दिल लगा लेता है, सुंदरी को जाता है भूल
इप्टा ने नाटक से जंगलों की कटाई और उसके असर को किया जीवंत
सिटी रिपोर्टर | भारतीय जन नाट्य संघ इप्टा की ओर से गुरुवार को निफ्ट में एक नाटक का मंचन किया। कैंपस स्थित ओपन थिएटर में नाटक की शुरुआत ...जोगीरा स...रा...रा...रररर से हुई। स्वप्न दु:स्वप्न का लेखन डॉ. प्रभात कुमार मंडल ने किया और उसे रूपांतरित अनिल रंजन भौमिक ने की। ब्लैक कपड़े में आए कलाकारों ने अपने नाटक के जरिए वैश्विक स्तर पर हो रहे जंगलों की कटाई और उसके दुष्प्रभावों को दिखाया। उनके एक्सप्रेशन ने छात्रों को भी विषय पर चिंतित होने के लिए विवश कर दिया। यह नाटक श्रृंखला कैरेबिआई द्वीप हाइटी के निवासियों पर फ्रांस सरकार द्वारा किए गए अत्याचारों को दिखाया। वृक्षों की कटाई से होने वाले प्रभाव के तीनों कालखंडों को विस्तार से दर्शाया। नाटक में अलग-अलग स्थानों पर कलाकृतियों और चित्रों की खूबसूरती का इस्तेमाल किया। नाटक के अंत में बढ़ रहे ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा और भविष्य में होने वाले ऑक्सीजन मास्क की जरूरत को दर्शाया गया है। कॉलेज के सभी छात्र इस दौरान मौजूद रहे। कलाकारों में संजय, राजन, नितेश, सुबोध, साकिब, आयुषी और अन्य शामिल रहे।

अपनी नवविवाहिता प्यारी सुंदरी को गांव में ही छोड़कर नायक बिदेसी रोजी रोजगार के लिए कोलकाता चला जाता है। पहुंचने के बाद बिदेसी एक दूसरी औरत से दिल लगा लेता है और जिंदगी गुजर-बसर करने में लग जाता है। दूसरी औरत से दो बच्चे जन्म लेते हैं। बिदेसी अपनी दुल्हन प्यारी सुंदरी को भूल जाता है। उधर प्यारी सुंदरी अपने पति को खोज के लिए सुंदरी बटोही को पूरब देश भेजती है। बटोही, बिदेसी को गांव वापस लाता है। इधर दूसरी प|ी भी गांव पहुंच जाती है। बिदेसी की सारी पोल खुलने के बाद दोनों औरतों में खूब झगड़ा होता है। बिदेसी को अपनी गलती का अहसास होता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें