पटना / 14 साल में पहली बार राजग शासन के ‘रावण वध’ में भाजपा का एक भी बड़ा नेता नहीं पहुंचा जबकि सीएम थे, जदयू को आपत्ति



गांधी मैदान के मंच पर सबके नाम की लगी थीं कुर्सियां, सीएम के साथ 2 नेता दिखे गांधी मैदान के मंच पर सबके नाम की लगी थीं कुर्सियां, सीएम के साथ 2 नेता दिखे
X
गांधी मैदान के मंच पर सबके नाम की लगी थीं कुर्सियां, सीएम के साथ 2 नेता दिखेगांधी मैदान के मंच पर सबके नाम की लगी थीं कुर्सियां, सीएम के साथ 2 नेता दिखे

  • जदयू ने कहा- भाजपा में जनता का सामना करने का साहस नहीं, इसीलिए कोई भी नेता नहीं आया
  • भाजपा ने कहा- हम तो जलजमाव में फंसे लोगों की ही सेवा में लगे थे... जदयू से मतभेद नहीं 
  • आयोजक बोले-आए भी नहीं और बताया भी नहीं

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2019, 08:18 AM IST

पटना. लंका दहन की तपिश में सत्ताधारी गठबंधन की राजनीति भी खूब तपी। दरअसल, लंका दहन-रावण वध के मौके पर गांधी मैदान में भाजपा का एक भी बड़ा नेता नहीं था। 14 साल के राजग शासन में ऐसा पहली बार हुआ। इसने कई दिनों से दोनों सहयोगियों के बीच जारी विवाद को नया रूप दिया। आयोजन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार थे। अगल-बगल कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा अाैर स्पीकर विजय चौधरी थे। जदयू के नेताओं ने भाजपाइयों की इस गैरमौजूदगी पर घोर ऐतराज किया। मुख्य विपक्ष राजद ने इसे जदयू-भाजपा के बिगड़े रिश्ते के रूप में मजे का प्रचारित किया।

 

हालांकि, दोनों दलों (जदयू-भाजपा) ने पुरजोर एकता की बात कही है। कार्यक्रम के आयोजक प्रमुख कमल नोपानी जो जदयू व्यावसायिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष भी हैं, ने कहा-14 साल में ऐसा पहली बार हुआ जब भाजपा, रावण दहन कार्यक्रम से अलग रही। हमने राज्यपाल से लेकर उपमुख्यमंत्री मोदी, भाजपा के सभी मंत्रियों, राजधानी के सांसदों-विधायकों को न्याेता भेजा था। लेकिन सभी बिना कोई वजह बताए गायब रहे। मंच पर सबके नाम की कुर्सियां लगी थीं। नहीं अाना था ताे बताना चाहिए था। वह भी तब, जब मंच पर सीएम खुद थे। हमने फोन भी लगाया पर अधिकतर के फोन नॉट-रिचेबल थे।

 

किसी मुगालते में नहीं रहंे भाजपाई 
अगर भाजपाइयों के मन में कपट है तो वह किसी मुगालते में नहीं रहें। जनता करारा जवाब देगी। रावण वध में ऐसा क्या था जो सीएम के प्रोटोकॉल का भी उल्लंघन करने में उन्हें हिचकिचाहट नहीं हुई? उन्होंने अापदा का भी राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश की।' - डॉ.रणवीर नंदन, एमएलसी, जदयू

 

कोई किसी तरह का भ्रम नहीं पाले
मैं नेपाल के मनोकामना मंदिर में था। भाजपा के सारे बड़े नेता किसी न किसी कार्य में व्यस्त थे। इसी वजह से वे गांधी मैदान के आयोजन में नहीं जा सके। यह कोई बड़ी बात नहीं। एनडीए अटूट है और कहीं कोई विवाद नहीं है। इस मामले को लेकर कोई किसी तरह का भ्रम न पाले।’ -डॉ.संजय जायसवाल, प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना