प्याज 60 के पार, लहसुन 150 रुपए किलाे

Patna News - रसोई से जायका गायब होने लगा है। प्याज की कीमतें 60 से 70 रुपए किलो हो चुकी हैं। नासिक से आनेवाली आवक बारिश के बाद कमजोर...

Oct 12, 2019, 08:46 AM IST
रसोई से जायका गायब होने लगा है। प्याज की कीमतें 60 से 70 रुपए किलो हो चुकी हैं। नासिक से आनेवाली आवक बारिश के बाद कमजोर हो चुकी है। अगस्त के पहले सप्ताह तक पटना की मंडियों में प्याज 22 से 28 रुपए किलो था। इधर पिछले दाे महीनों में अदरक की कीमत में भी चार गुनी वृद्धि हुई है। अच्छी क्वालिटी का सूखा अदरक 300 रुपए किलो तक पहुंच चुका है। इससे बचते हुए जब गृहणियों ने लहसुन की ओर रुख किया तो वहां भी मायूसी हाथ लगी। अच्छी क्वालिटी का देसी लहसुन भी 150 रुपए को छू चुका है। दूसरी और तीसरी क्वालिटी भी क्रमश: 120 और 110 रुपए किलो हो चुका है। हिमाचल और उत्तरप्रदेश के लहसुन की कीमतें सबसे अधिक उछाल पर हैं। कीमतें तो वैसे ताे वर्ष 2018 की आखिरी तिमाही से ही बढ़ने लगी थीं, लेकिन पिछले साल अक्टूबर में 40 रुपए प्रति किलो मिलने वाला लहसुन अभी 150 रुपए किलो है। मार्केट एक्सपर्ट बताते हैं कि 2015-16 के बाद पहली बार कीमतें इतनी अधिक बढ़ी हैं। केंद्र सरकार ने चाइनीज लहसुन का आयात प्रतिबंधित कर रखा है, लेकिन निर्यात पर कोई पाबंदी नहीं है।

चाइनीज लहसुन पर रोक का भी असर

बड़े व्यापारियों का कहना है कि चाइनीज लहसुन गोरखपुर, रक्सौल, धूलावाड़ी, जोयरपुर के रास्ते नेपाल से आ रहे हैं, लेकिन कस्टम और जांच एजेंसियों की कड़ाई के कारण पहले जैसी बेधड़क सप्लाई संभव नहीं हो पा रही है। लहसुन की अवैध सप्लाई 60 फीसदी तक कम हुई है। इन पाबंदियों का ही असर है कि बाजार से चाइनीज लहसुन गायब है। सारी निर्भरता देसी लहसुन पर आ टिकी है। हालांकि बाजार सूत्रों के अनुसार कुल्लू घाटी (हिमाचल) में इस बार 900 हेक्टेयर में लगभग 15 हजार मीट्रिक टन लहसुन का उत्पादन हुआ है। लेकिन इसके बाजार में पहुंचने में अभी वक्त लगेगा। तबतक लहसुन इसी भाव में खरीदना पड़ेगा।

बढ़ी कीमतों से हम परेशान



X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना