बिहार / हार के बाद पहली बार एक मंच पर विपक्ष, मांझी ने 85 प्रतिशत आरक्षण मांगा, तेजस्वी बोले 100 प्रतिशत हो



लोहिया की 52 वीं पुण्यतिथि पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने महागठबंधन के दलों व नेताओं को दी सलाह लोहिया की 52 वीं पुण्यतिथि पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने महागठबंधन के दलों व नेताओं को दी सलाह
Opposition shows on a platform for the first time after the defeat in Lok Sabha elections
X
लोहिया की 52 वीं पुण्यतिथि पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने महागठबंधन के दलों व नेताओं को दी सलाहलोहिया की 52 वीं पुण्यतिथि पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने महागठबंधन के दलों व नेताओं को दी सलाह
Opposition shows on a platform for the first time after the defeat in Lok Sabha elections

  • तेजस्वी ने आगामी विधानसभा सहित सभी चुनाव ईवीएम की जगह वैलेट पेपर पर कराने की मांग की
  • राम मनोहर लोहिया की 52 वीं पुण्यतिथि पर तेजस्वी ने कहा- सभी दल छोड़ें इगो

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 08:15 PM IST

पटना. लोकसभा चुनाव में हार के बाद पहली बार राम मनोहर लोहिया की 52 वीं पुण्यतिथि पर शनिवार को बापू सभागार में पूरा विपक्ष एक मंच पर दिखा। राजद, कांग्रेस, रालोसपा, हम व वीआईपी के महागठबंधन के साथ ही वामदलों के नेता भी थे। इसमें राजद नेता तेजस्वी यादव ने आरक्षण की सीमा 100 प्रतिशत करने की मांग की। इससे पहले जीतम राम मांझी ने आरक्षण का दायरा बढ़ाकर 85 प्रतिशत करने की मांग रखी थी।

 

कार्यक्रम में सभी दलों ने राज्य में एनडीए सरकार को हटाने का संकल्प दोहराया। केंद्र व राज्य सरकार के खिलाफ 10 नवंबर को जिला मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन का निर्णय लिया। राजद नेता तेजस्वी यादव ने सभी महागठबंधन के सभी दलों से इगो और स्वार्थ छोड़ने की सलाह दी। कहा- जो दल जहां मजबूत है, वहीं अपना दावा करे, बाकी दूसरे का सपोर्ट करे।

 

तेजस्वी ने कहा कि चोर दरवाजे से भाजपा को सत्ता में लाने वाले अफवाह फैला रहे कि मैं भाजपा के संपर्क में हूं। पापा (लालू) को साजिश कर जेल भेजा। मुझ पर 35 केस लाद दिया। मेरी सभी बहन पूरे परिवार के पीछे सीबीआई और ईडी को लगा दिया है। लेकिन हम न डरेंगे, न झुकेंगे और कभी भाजपा से समझौता नहीं करेंगे। लोकसभा चुनाव में हम हारे नहीं है, बल्कि साजिश कर हराया गया है।

 

उन्होंने कहा ईवीएम की जगह बैलेट पेपर पर वोटिंग हो। एनडीए सरकार को सत्ता से हटाने के लिए हम सड़क पर संघर्ष करेंगे। पूछा- कहां गया विकास? लोकसभा की 40 में 39 सीटों पर एनडीए की जीत हुई। लेकिन कहां गया विशेष राज्य का दर्जा? विशेष पैकेज का क्या हुआ? बिहार की बदहाली के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस्तीफा दे देना चाहिए।

 

तेजस्वी ने कहा कि सरकार में बैठे लोग आपस में लड़ रहे हैं। जलजमाव मामले में किसी से इस्तीफा नहीं लिया। नगर निगम फेल है। बिहार में सृजन सहित 40 बड़े घोटाले हुए और सब की लीपापोती की जा रही है। अध्यक्षता करते हुए रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने भी कहा कि एनडीए को सत्ता से हटाने के लिए हम सभी को अपना-अपना इगो छोड़ना होगा। सत्ता से हटाने के मंथन में अमृत आप सभी बांट लें, हम विष पीने को तैयार हैं। हम बीच वाली कुर्सी (सीएम का दावेदार) छोड़ किनारे के कुर्सी पर बैठने के लिए तैयार हैं। आज जनतंत्र खतरे में हैं। राज्य में शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था बदहाल है। नाथूराम गोडसे का नाम लेकर सत्ता में आने वाले लोग आज गांधी की बात कर रहे हैं। न्यायपालिका में लोकतंत्र नहीं है। कोलेजियम सिस्टम समाप्त किया जाए।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना