खाकी पर दाग / नशे में धुत मुंशी चला रहा था पाटलिपुत्र थाना, पकड़ा गया



मुंशी अरविंद पांडेय। मुंशी अरविंद पांडेय।
X
मुंशी अरविंद पांडेय।मुंशी अरविंद पांडेय।

  • सिटी एसपी ने किया गिरफ्तार, निलंबित, भेजा गया जेल, चलेगी विभागीय कार्यवाही, थानेदार को भी शोकॉज 
  • सबसे बड़ा सवाल- होटल में छापेमारी कर दो को दबाेचा, पर मुंशी के नशे में हाेने की भनक तक नहीं लगी

Dainik Bhaskar

Aug 02, 2019, 03:46 AM IST

पटना. एक सप्ताह पहले ही पुलिसकर्मियों को शराब नहीं पीने, न किसी को पीने देने की शपथ दिलाई गई थी, पर पाटलिपुत्र थाने के मुंशी अरविंद पांडेय पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। नशे में धुत होकर बड़े आराम से वह थाना चला रहा था। बुधवार की रात कोई शिकायत करने पहुंचा तो उससे उलझ गया। उस व्यक्ति ने फौरन वरीय पुलिस अधिकारियों को इसकी सूचना दे दी।

 

सिटी एसपी सेंट्रल विनय तिवारी थाना पहुंचे। फौरन वहां मौजूद पुलिस को गिरफ्तार करने का आदेश दिया। सिटी एसपी ने बताया कि वह नशे में था। उसे जेल भेज दिया गया। इधर, एसएसपी गरिमा मलिक ने करीब 48 साल के अरविंद को निलंबित कर दिया। थानेदार केपी सिंह को भी शो कॉज किया है। अरविंद पर अब विभागीय कार्यवाही चलेगी। उसका बर्खास्त होना तय है। एक साल से अरविंद इसी थाने में मुंशी था। वह गोपालगंज का रहने वाला है।


तोड़ दिया था ब्रेथ एनालाइजर 
अरविंद की गिरफ्तारी नशे की हालत में भले ही बुधवार की देर रात हुई, पर वह हमेशा शराब पीता था। शराब पीकर मुंशी का काम करता था। कई बार पुलिसकर्मियों ने उसे समझाया, पर उस पर असर नहीं पड़ा। सूत्रों के अनुसार अरविंद ने पकड़े जाने की आशंका को देखते हुए ब्रेथ एनालाइजर तक तोड़ दिया था, पर किसी ने वरीय अधिकारियों की इसकी सूचना नहीं दी। इससे पहले तिवारी जब गोपालगंज में बतौर एएसपी थे तो उन्होंने बैकुंठपुर के थानेदार व जमादार को पिछले साल 4 अक्टूबर की रात वक्त गिरफ्तार किया था, जब दोनों थाना द्वारा जब्त शराब को बेचने जा रहे थे। 

 

मुंशी के नशे में हाेने की भनक तक नहीं लगी 
पाटलिपुत्र थाना पुलिस ने बुधवार को ही एक हाेटल में छापेमारी कर दवा कंपनी के दो एग्जीक्यूटिव को जाम से जाम टकराते मौके से गिरफ्तार किया था। दोनों के पास से एक बोतल शराब भी बरामद किया गया था। सबसे बड़ा सवाल यह है कि होटल में शराब पीने की जानकारी पाटलिपुत्र थाना के थानेदार केपी सिंह को मिल गई पर नशे की हालत में मुंशी थाना संभाल रहा था, इसकी भनक क्यों नहीं लगी। 

 

उठ रहे सवाल 

  • वह बराबर शराब पीता था, नशे की हालत में थाना संभालता था तो पहले ही उस पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई। 
  • अगर थाने की पुलिस गिरफ्तार करने में हिचक रही थी तो वरीय अधिकारियों को क्यों नहीं बताया गया। 
  • होटल के बंद कमरे में शराब पीने की जानकारी थानेदार को मिल गई, मुंशी के बारे में नहीं। 
  • दारू बाज मुंशी ने ब्रेथ एनालाइजर तोड़ा तो इस पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई। 
  • कहीं ऐसा तो नहीं अरविंद का थाना में ज्यादा प्रभाव था।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना