पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पटना| अाईजीअाईएमएस में शरीर से केवल प्लेटलेट्स निकालने वाली एफेरेसिस

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना| अाईजीअाईएमएस में शरीर से केवल प्लेटलेट्स निकालने वाली एफेरेसिस मशीन की सुविधा बहाल हो गई है। इससे प्लेटलेट्स निकालने पर डोनर के शरीर में बाकी कंपोनेंट जैसे रेड ब्लड सेल्स वापस चला जाता है। प्लेटलेट्स हर तीन दिन पर डोनेट किया जा सकता है। इस तकनीक से प्लेटलेट्स डोनेट करने में ढाई से तीन घंटे का समय लगता है। खून से निकले प्लेटलेट्स की तुलना में यह छह गुना बढ़िया होता है। खून से निकलने वाले प्लेटलेट्स को चढ़ाने पर 10 से 15 हजार प्लेटलेट्स काउंट बढ़ता है। जबकि एफेरेसिस मशीन से निकलने वाले काे चढ़ाने पर प्लेटलेट्स काउंट 40 से 60 हजार बढ़ जाता है। ब्लड बैंक के डॉ. अंशुमान साहू ने बताया कि इस तकनीक से सबसे पहले 23 साल की युवती सेतु कुमारी ने इस तकनीक से प्लेटलेट्स डोनेट किया। डीन डॉ. एसके शाही ने बताया कि प्लेटलेट्स की जरूरत कई गंभीर बीमारियों जैसे ब्लड कैंसर के मरीज, जिनको कीमो पड़ा है, अत्यधिक ब्लीडिंग होने पर, लिवर ट्रांसप्लांट होने पर, बड़ा अाॅपरेशन होने पर और डेंगू से पीड़ित होने पर पड़ती है।

खबरें और भी हैं...