पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आईजीआईएमएस में मरीज ने रजिस्ट्रेशन फाॅर्म पर लिखा कोरोना, डॉक्टर से लेकर मेडिकल सुपरिंटेंडेंट तक रहे परेशान

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना जंक्शन पर मास्क पहन कर घूमते बच्चे। - Dainik Bhaskar
पटना जंक्शन पर मास्क पहन कर घूमते बच्चे।
  • रजिस्ट्रेशन काउंटर पर जब इन मरीजों का नाम पुकारा तो कोई नहीं आया, सूचना मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. मनीष मंडल को दी गई
  • टीवी और माइक पर पुकारा गया नाम, कोई नहीं आया पकड़े जाने पर अफवाह फैलाने वालों पर होगी कार्रवाई

पटना. आईजीआईएमएस में कोरोना वायरस के चार मरीज भर्ती हुए हैं। यह अफवाह गुरुवार को पूरे दिन चलती रही। किसी ने रजिस्ट्रेशन कराने के लिए फाॅर्म भरा। फाॅर्म में नाम लिखा सुनीता और संगीता (सगी बहनें)। बीमारी का नाम लिखा- कोरोना वायरस और पता की जगह सिर्फ मोबाइल नंबर दिया। रजिस्ट्रेशन काउंटर पर जब उसकी बारी अाई तो काउंटर पर बैठा कर्मचारी चौंक गया। नाम पुकारा गया। पर, कोई नहीं अाया। फिर इसकी सूचना मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. मनीष मंडल को दी गई। डॉ. मंडल ने माइक और टीवी के जरिए एनाउंस करवाया। शाम तक कोई नहीं अाया। यह भी प्रचारित किया गया कि कोई कोरोना के मरीज यहां हैं तो सूचना दें। जांच और इलाज की मुफ्त सुविधा दी जाएगी। रजिस्ट्रेशन फार्म पर दिए गए मोबाइल नंबर पर अधीक्षक ने फोन किया। फोन बंद था। डॉ. मंडल ने बताया कि इसे इस तरह प्रचारित किया गया कि दूसरे अस्पतालों से फोन अाने लगे। बाद में कोई नहीं अाया तो यह संदेह हुअा कि किसी ने अफवाह फैलाई है। उन्होंने कहा कि अफवाह फैलाने वाले यदि पकड़े जाएंगे तो उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

एनएमसीएच में भर्ती दो संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव, दो नए मरीज भर्ती हुए 
एनएमसीएच स्थित संक्रामक रोग अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव रही। नालंदा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डाॅ. विजय कुमार गुप्ता व नोडल पदाधिकारी डाॅ. अजय कुमार सिन्हा ने बताया कि उन्हें बुधवार को ही अाइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया था। 30 वर्षीया महिला राजस्थान के ब्रह्म स्थान मंदिर से दर्शन कर लौटी थी, जबकि 24 वर्षीय युवक दिल्ली से लौटा था। शुक्रवार को उन्हें डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। अब तक चार संदिग्ध मरीजों को यहां भर्ती किया गया है, सभी की रिपोर्ट निगेटिव रही। गुरुवार को देर शाम दो नए मरीज आए हैं। इनमें से पटना निवासी महिला मथुरा से लौटी है, जबकि सीवान का रहने वाला युवक दुबई में एसी मैकेनिक का काम करता है। इन दोनों संदिग्ध मरीजों की जांच के लिए सैंपल आरएमआरआई भेजा गया है। शुक्रवार को रिपोर्ट आने की उम्मीद है।

एयरलाइंस कंपनियों ने पटना एयरपोर्ट पर रखा सेनिटाइजर
विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने के बाद एयरलाइंस कंपनियों ने यात्रियों के लिए पटना एयरपोर्ट पर सेनिटाइजर की व्यवस्था की है। चेक-इन एरिया से बोर्डिंग गेट तक स्पाइसजेट व गो एयर ने अल्कोहल बेस्ड सेनिटाइजर रख दिया है। यात्री सेनिटाइज होने के बाद विमान पर सवार हो रहे हैं। वहीं सरकार ने संदिग्ध यात्रियों की जांच के लिए डॉक्टरों की टीम तैनात कर रखी है। वायरस का शक होने पर उनकी जांच की जा रही है।

पीएमसीएच में डॉक्टर और कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द
पीएमसीएच में कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए डॉक्टर और कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर दी गई है। इसकी सूचना सभी डॉक्टरों और कर्मचारियों को दे दी गई है। यह भी कहा गया है कि डॉक्टर अलर्ट मोड में रहें। कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज और मॉनिटरिंग के लिए दो नोडल पदाधिकारी नियुक्त किए गए हैं। इनमें डॉ. समरेंद्र झा और पूर्णानंद झा शामिल हैं। कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए डॉक्टरों की टीम गठित की गई है। उसी के अनुसार रोस्टर भी तैयार किया गया है। प्राचार्य डॉ. विद्यापति चौधरी और अधीक्षक डॉ. विमल कारक के मुताबिक जिन डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई गई है, वे सभी ट्रेंड हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव खुद मॉनिटरिंग कर रहे हैं। 

कॉटेज में बनाया गया आइसोलेशन वार्ड
कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए सेंट्रल इमरजेंसी में अाइसोलेशन वार्ड बनाया गया था। वहां मरीजों की भीड़ और कुछ डॉक्टरों के विरोध के बाद इसे कॉटेज में शिफ्ट कर दिया गया है। यहां एक फ्लोर पर 9 कमरे हैं, जिनमें एक साथ 18 मरीज भर्ती हो सकते हैं। जरूरत पड़ने पर पूरे कॉटेज को अाइसोलेशन वार्ड में बदल दिया जाएगा।
 

खबरें और भी हैं...