--Advertisement--

कवियों ने रचनाओं से खींची खट्टे-मीठे अहसासों की रेखाएं

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 04:56 AM IST

Patna News - कवियों ने रचनाओं से खींची खट्टे-मीठे अहसासों की रेखाएं सिटी रिपोर्टर|पटना ख्वाबों की जमीन पर अरमानों की...

Patna News - poets drawn from compositions the lines of sweet sour feelings
कवियों ने रचनाओं से खींची खट्टे-मीठे अहसासों की रेखाएं

सिटी रिपोर्टर|पटना

ख्वाबों की जमीन पर अरमानों की रेखाएं खींची जाती रहीं, खट्टे-मीठे अहसास शब्द के सांचे में ढलते रहे। नज्म, ग़ज़ल, शायरी और कविताएं जिंदगी का सच बयां करती रहीं। पत्रकारिता का चेहरा भी पत्रकारों ने बयां किया। मौका था पत्रकार कवि सम्मेलन का। रविवार को बोलो जिंदगी की

ओर से स्कॉलर्स अबोड स्कूल, दीघा रोड में यह आयोजन हुआ। इसमें विभिन्न मीडिया घरानों के पत्रकार कवियों ने अपनी कविताओं और गजलों से खूब वाहवाही लूटी। पगली लड़की नहीं अखबार हो गई, दिल के पहले पन्ने पर छप के रोज आ जाती है, जैसे प्रदेश की सरकार हो गई... अनिकेत त्रिवेदी की कविता खूब सराही गई तो शायर समीर परिमल की, मौत से भी ना रुकेगा ये कारवां, दिल से आवाज आएगी हिन्दोस्तां...ने खूब तालियां बटोरीं, अब उधार की स्याही से कोई क्या देश के जज्बात लिख पाएगा सुनाकर प्रेरणा प्रताप ने मन भर दिया। कुमार रजत ने पलायन का दर्द बयां किया तो चंदन द्विवेदी ने संचालन किया और अंत में कभी-कभी खुद से यूंही ठन जाती है, छंदों की बेबस मुट‌्ठी तन जाती है...सुनाई। आकाशवाणी पटना के सहायक निदेशक डॉ. किशोर सिन्हा ने बारिश में भीगी हुई लड़कियां अच्छी लगती हैं सुनाई। अमलेन्दु अस्थाना ने सुनाया, अब तो तुम्ही लब खोल दो अंधेरों, उजाला हो जाए, इस चकाचौंध का मुंह काला हो जाए।

बीरेंद्र बरियार ज्योति, अभिषेक कुमार मिश्रा, श्वेता मिनी व श्रीकांत व्यास ने भी अपनी रचनाओं से मंत्रमुग्ध किया। इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार शैलेंद्र दीक्षित, प्रमोद कुमार सिंह, वरुण कुमार सिंह, तबस्सुम अली, स्कूल की प्राचार्य बी. प्रियम, बोलो जिंदगी फाउंडेशन के राकेश सिंह सोनू उपस्थित रहे।

बोलो जिंदगी फाउंडेशन की ओर से स्कॉलर्स अबोड स्कूल में पत्रकार कवि सम्मेलन का आयोजन

X
Patna News - poets drawn from compositions the lines of sweet sour feelings
Astrology

Recommended

Click to listen..