--Advertisement--

पुलिस लाइन हंगामा / जोनल आईजी ने पुलिस मुख्यालय को सौंपी रिपोर्ट, कई अधिकारी जांच के घेरे में



पुलिस लाइन में महिला सिपाही की मौत के बाद हुआ था उपद्रव पुलिस लाइन में महिला सिपाही की मौत के बाद हुआ था उपद्रव
X
पुलिस लाइन में महिला सिपाही की मौत के बाद हुआ था उपद्रवपुलिस लाइन में महिला सिपाही की मौत के बाद हुआ था उपद्रव

  • 2 नवंबर को महिला सिपाही की मौत के बाद हुआ था उपद्रव
  • सिपाहियों ने की थी एसपी और डीएसपी की दौड़ा-दौड़ाकर पिटाई

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 03:47 PM IST

पटना. 2 नवंबर को पुलिस लाइन में हुए उपद्रव मामले में पटना के जोनल आईजी एनएच खां ने पुलिस मुख्यालय को रिपोर्ट सौंप दी है। सूत्रों के मुताबिक कई अधिकारी जांच के घेरे में हैं। आईजी ने रिपोर्ट के बारे में कोई भी जानकारी देने से इनकार किया है। मामला हाईप्रोफाइल होने के चलते आईजी ने चुप्पी साधी है। अवकाश की वजह से जांच रिपोर्ट का अध्ययन नहीं हुआ है। छठ की छुट्टी के बाद रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई होगी।

 

क्या है मामला?: 2 नवंबर को पटना पुलिस लाइन में महिला सिपाही की मौत के बाद महिला और पुरुष सिपाहियों ने जमकर हंगामा किया था। सिपाहियों ने डीएसपी मसलाउद्दीन, एसपी सिटी डी अमर केस और एसपी ग्रामीण आनंद कुमार को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा था। इस मामले में 4 नवंबर को 77 महिला समेत 175 पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया। विभाग के 23 कर्मचारियों को निलंबित भी किया गया है।

 

महिला सिपाहियों का डीएसपी पर गंभीर आरोप: गुरुवार को महिला सिपाहियों ने पुलिस लाइन के डीएसपी पर दुर्व्यवहार और शोषण के आरोप लगाए। 32 महिला सिपाहियों ने राज्य महिला आयोग में अपनी शिकायत दर्ज कराई। एक महिला सिपाही ने कहा कि जब भी कोई बीमार होती तो डीएसपी अपने केबिन में बुलाते थे। कहते थे- केबिन में आओगी तो जितनी बोलोगी उतनी छुट्टी देंगे। जब कहती थी कि सर मर जाएंगे तो डीएसपी कहते थे-मर जाओगी तो पांच आदमी बुलवाकर फेंक देंगे और नई बहाली हो जाएगी।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..