आरटीआई से सूचना मांगी तो पुलिस ने किया प्रताड़ित, एसएसपी ने कहा- जांच कराएंगी

Patna News - सूचना के अधिकार के तहत पुलिस से सूचना मांगना एक सामाजिक कार्यकर्ता को महंगा पड़ गया। मामला खुसरूपुर थाना क्षेत्र...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:01 AM IST
Patna News - police sought information from rti tortured ssp said will investigate
सूचना के अधिकार के तहत पुलिस से सूचना मांगना एक सामाजिक कार्यकर्ता को महंगा पड़ गया। मामला खुसरूपुर थाना क्षेत्र के शफीपुर गांव के दलित युवक अशोक दास के साथ घटित हुआ है। अशोक ने बताया कि 2019 के लाेकसभा चुनाव के मद्देनजर उसपर थाने से धारा 107 का नोटिस मिला। इसके बाद उसने सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी थी कि किसी पर 107 लगाने का क्या आधार होता है तथा उसने यह भी जानकारी मांगी कि क्या खुसरूपुर थाने में उसके खिलाफ कोई मामला है। अशोक के अनुसार, थाना प्रभारी ने जानकारी देने से इनकार कर दिया।

इसके बाद अशोक दास ने उसी तारीख को एसएसपी से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी। वहां 16 तारीख के एक पत्र की कॉपी मिली, जिसमें थाना प्रभारी को अशोक दास को उक्त सूचना तीन दिनों में देने का निर्देश दिया गया था। इससे बौखलाए थाना प्रभारी रात 1 बजे उसके घर पर पहुंच गए। इस दाैरान अशाेक की प|ी साेने के कपड़ाें में थी, उसे कपड़े बदलने तक का समय नहीं दिया। अशोक और उसके परिवार ने पुलिस की इस कार्रवाई की विरोध किया तो थाना प्रभारी और एएसआई ने बदतमीजी की। अशोक ने बताया कि 2015 में खुसरूपुर थाने में पदस्थापित एएसआई योगेंद्र यादव को निगरानी द्वारा घूस लेते रंगे हाथ पकड़वाया था, उस केस की भी गवाही खुल गई है अाैर उस केस में गवाही से पलटने को लेकर पुलिस लगातार दबाव बनाया जा रहा है। इस घटना से दलित अशोक दास और उसका पूरा परिवार दहशत में है।

कई रिकॉर्ड हैं अशोक के पास

बताते चलें कि अशोक दास एक आरटीआई कार्यकर्ता है। वह पटना से दिल्ली शिक्षा का अलख जगाने के लिए पैदल चल चुका है अाैर 30 घंटे से अधिक एक पैर पर खड़ा रहने का रिकार्ड भी रखता है।




X
Patna News - police sought information from rti tortured ssp said will investigate
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना