‘खुंद पे हंस ले यार' में दिखा रिटायरमेंट के बाद का दर्द

Patna News - कुसुम देवी महिला सामाजिक सेवा संस्थान की ओर से शुक्रवार को प्रेमचंद रंगशाला में ‘खुंद पे हंस ले यार...\' नाटक...

Dec 07, 2019, 08:46 AM IST
Patna News - post retirement pain in 39khund pe hans le yaar39
कुसुम देवी महिला सामाजिक सेवा संस्थान की ओर से शुक्रवार को प्रेमचंद रंगशाला में ‘खुंद पे हंस ले यार...' नाटक प्रस्तुत किया गया। कृष्णायन के कलाकारों की ओर से मंचित नाटक का मुख्य किरदार 60 वर्ष का एक रिटायर्ड अफसर विश्वास बाबू था। वह अपने जीवनकाल में खूब घूस कमाता है। दो महीने पहले रिटायर होने के बाद वह अपनी प|ी की इच्छाओं के बोझ से दबा हुआ है। ऐसे ही एक दिन विश्वास बाबू को पार्क में उम्मीद सिंह नामक अधेड़ व्यक्ति मिलता है। उम्मीद उससे कहता है कि तुम्हारा परिवार तुम्हें बेवकूफ बना रहा था। इसके बाद विश्वास बाबू यही सवाल अपनी प|ी सुलक्षणा से करता है कि ऐसा क्या हुआ कि जो दो महीने पहले मुझे प्यार और इज्जत मिलती थी, वो अब नहीं मिल रहा है। इस पर उसकी प|ी सुलक्षणा कहती है, पहले आप फलदार पेड़ थे और अब आप सूख चुके हैं। अभी दोनों के बीच बात चल ही रही थी कि उसके बेटे उमेश का फोन आता है। बेटा सिर्फ अपनी मां से बात करने के लिए इच्छा जाहिर करता है। बेटा मां से कहता है कि उसकी प|ी शौली को बच्चा होने वाला है। यह सुनकर सुलक्षणा अपने पति विश्वास को छोड़ कर अपने बेटे के पास चली जाती है। इसके बाद विश्वास बाबू के दिन ऐसे फिरे कि उसे अपनी योजना स्वयं बनानी पड़ी। इसके लेखक ईं. बाके बिहारी साव हैं। परिकल्पना व निर्देशन चन्दना घोष ने किया है।

X
Patna News - post retirement pain in 39khund pe hans le yaar39
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना