• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Prashant Kishor Rahul Gandhi | JDU National Vice president Prashant Kishor To Rahul Gandhi, Says No To CAA NRC Apply In Congress Ruled States

प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी से कहा- कांग्रेस शासित राज्यों में नहीं लागू होने दें सीएए-एनआरसी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशांत किशोर एनडीए के पहले नेता हैं जो लगातार सीएए-एनआरसी की मुखालफत कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar
प्रशांत किशोर एनडीए के पहले नेता हैं जो लगातार सीएए-एनआरसी की मुखालफत कर रहे हैं।
  • प्रशांत ने कहा- राहुल गांधी यह आधिकारिक घोषणा करें कि कांग्रेस शासित राज्यों में वे एनआरसी लागू नहीं होने देंगे
  • एनडीए के अंदर प्रशांत किशोर ऐसे पहले नेता हैं जो लगातार नागरिकता कानून और एनआरसी का विरोध कर रहे हैं

पटना. जदयू नेता और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी से कहा कि कांग्रेस शासित राज्यों में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर सिटिजन्स (एनआरसी) को लागू नहीं करने की आधिकारिक घोषणा करें। कांग्रेस द्वारा सीएए और एनआरसी के खिलाफ सोमवार को राजघाट पर किए गए विरोध पर प्रशांत ने राहुल गांधी को धन्यवाद भी दिया।


प्रशांत किशोर ने कहा कि लोगों के आंदोलन के साथ जुड़ने के लिए राहुल गांधी का धन्यवाद। मुझे उम्मीद है कि राहुल गांधी यह आधिकारिक घोषणा करेंगे कि कांग्रेस शासित राज्यों में एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा एनआरसी के मुद्दे पर बयान देने से बेहतर है कि कांग्रेस अध्यक्ष इसकी आधिकारिक घोषणा कर दें।

राज्य मना करें तभी एनआरसी बिल रूक सकता है
प्रशांत ने कहा कि अमित शाह द्वारा संसद में एनआरसी बिल लाने के वादा तभी टूटेगा जब राज्य इसे अपने यहां लागू करने से मना कर दें। सीएबी के खिलाफ भी कांग्रेस समेत कई दलों ने वोटिंग की थी लेकिन वे इसे कानून बनने से नहीं रोक पाए। अगर एनआरसी को सभी राज्य लागू करने से मना कर दें तब यह बिल रूक सकता है।


बता दें कि एनडीए के अंदर प्रशांत किशोर ऐसे पहले नेता हैं जिन्होंने नागरिकता संशोधन कानून की मुखालफत की। जदयू द्वारा संसद में इस बिल के समर्थन के बावजूद प्रशांत लगातार इसके खिलाफ आवाज उठाते रहे।

एनआरसी रोकने के सुझाव भी दिए
रविवार को भी प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर सीएए और एनआरसी को लागू होने से रोकने के लिए दो सुझाव दिए थे। उन्होंने कहा कि सभी प्लेटफॉर्म पर अपनी आवाज उठाकर शांतिपूर्वक विरोध को जारी रखें और दूसरा यह कि सुनिश्चित करें कि सभी 16 गैर भाजपा मुख्यमंत्री अपने राज्यों में एनआरसी को लागू नहीं करें।

खबरें और भी हैं...