अक्टूबर में बारिश से रबी फसल का अधिक होगा उत्पादन

Patna News - सितंबर तक कम बारिश से खरीफ के साथ रबी में भी किसानों को भारी नुकसान की संभावना को अक्टूबर की बारिश ने समाप्त कर दी।...

Nov 11, 2019, 09:21 AM IST
सितंबर तक कम बारिश से खरीफ के साथ रबी में भी किसानों को भारी नुकसान की संभावना को अक्टूबर की बारिश ने समाप्त कर दी। अक्टूबर में अच्छी बारिश ने रबी फसल के बेहतर उत्पादन की गारंटी दे दी। खेतों में पर्याप्त नमी है। ठंड भी इस बार अच्छी होगी। इस साल 65 से 67 लाख टन गेहूं उत्पादन की संभावना है, जो पिछले साल की तुलना में 15 प्रतिशत अधिक होगा। पिछले साल 60 लाख टन गेहूं का उत्पादन हुआ था।

भोजपुर और बांका सहित कई जिलों के किसानों से कृषि विभाग को फीडबैक मिल रहा है कि धान फसल तो ठीक है, लेकिन अक्टूबर में दोबारा बारिश होने से ब्लैक स्पॉट और धान में खखरी (धान सूखने) की परेशानी है। इसके बावजूद अधिकांश जिलों से किसान खुश हैं। रबी मौसम के लिए किसानों को तिथिवार प्रखंडों प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

रबी फसलों के लिए अनुदान और अन्य उपादान वितरण शिविर की जानकारी भी रबी अभियान रथ से दी जा रही है। किसानों को रबी फसलों की उन्नत बीज उपलब्ध कराई जा रही है। बीज का उपचार भी किया जा रहा है, ताकि फसल में कीट व व्याधि का प्रकोप नहीं हो। प्रथम चरण में 22 से 31 अक्टूबर तक प्रथम चरण में सभी प्रखंड मुख्यालयों प्रशिक्षण सह उपादान वितरण कार्यक्रम पूरा हो चुका है। द्वितीय चरण का कार्यक्रम 11 से 18 नवंबर कतक होगा। किसानों को रबी मौसम में गेहूं फसल के लिए 3 और सुगंधित पौधों के 2 सिंचाई के लिए डीजल अनुदान का भी प्रावधान किया गया है। प्रखंड में रबी शिविर में योजनाओं के लिए चयनित किसानों को खाद, बजी, कीटनाशी आदि उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ ही गेहूं, मक्का, सब्जी आदि के बीज चयनित किसानों को उपलब्ध कराया जा रहा है।

रबी फसल उत्पादन का लक्ष्य 2018-19 में

43.75 लाख हेक्टेयर में 149.30 लाख टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। गेहूं 23 लाख हेक्टयेर में 72 लाख टन, रबी मक्का 5 लाख हेक्टेयर में 42लाख टन, गरमा मक्का 2.50 लाख हेक्टेयर मं 16.50 लाख टन, दलहन 11.50 लाख हेक्टेयर में 13.75 लाख टन, इसमें गरमा मूंग 6.35 लाख हेक्टेयर में 6.25 लाख टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। बोरो और गरमा धान 1.50 लाख हेक्टेयर में 4.70 लाख टन, जौ 0.25 लाख हेक्टेयर में 0.35 लाख टन, रबी या गरमा में राई, सरसो, तोरी, तीसी, सूर्यमुखी और तिल का 2.20 लाख हेक्टेयर में 3.35 लाख टन तेलहन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना