पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महिलाओं के उत्पीड़न के खिलाफ उठाएं आवाज

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

महिला के अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर एक रिपोर्ट जारी करते हुए महिलाओं के उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने की मांग की है। रिपोर्ट में बताया गया है कि महिलाऔ की खिलाफ होने वाले कुछ प्रतिशत अपराध ही प्रकाश मे आ पाते हैं।रेप, घरेलू हिंसा सहित अन्य मामले निजी और सार्वजनिक शर्म से जुड़े होने के कारण अप्रकाशित रह जाते हैं। देश में सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स के लक्ष्य 5 के अनुरूप महिला सुरक्षा और लैंगिक समानता की दिशा में कोई बड़ा एवं दूरगामी प्रयास नहीं किया है। महिला को ले कर आपराधिक कानून में संशोधन के लिए वर्मा समिति की सिफारिशों को गंभीरता से नहीं लिया गया। सत्ता के पदों पर आसीन लोगों द्वारा गलत कृत्य और बयान भारतीय समाज में महिलाओं की अखंडता और स्थिति में गिरावट ला रहे हैं।

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया के कार्यकारी निदेशक ने बताया कि इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का विषय ‘मैं हूं समानता की पीढ़ी, महिलाओं के अधिकारों को साकार करना’ है। महिलाओं को पितृ सत्तात्मक समाज में सफल होने के विचार को समावेशी व्यवहार और प्रगतिशील मानसिकता को प्रोत्साहित करे चुनौती देने की आवश्यकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए एक अनिवार्य कदम है कि सामूहिक रूप से हर जगह महिलाओं की समानता विशेष रूप से सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक जीवन में बढ़ावा दिया जाए।

खबरें और भी हैं...