भास्कर इम्पैक्ट / सीआरपीएफ सिपाही पर खौलता पानी फेंकने के मामले में मोकामा के डीआईजी डीके त्रिपाठी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज

सीआरपीएफ सिपाही ने डाक से राजगीर थाने में एफआईआर का आवेदन भेजा था। (फाइल फोटो) सीआरपीएफ सिपाही ने डाक से राजगीर थाने में एफआईआर का आवेदन भेजा था। (फाइल फोटो)
X
सीआरपीएफ सिपाही ने डाक से राजगीर थाने में एफआईआर का आवेदन भेजा था। (फाइल फोटो)सीआरपीएफ सिपाही ने डाक से राजगीर थाने में एफआईआर का आवेदन भेजा था। (फाइल फोटो)

  • छत्तीसगढ़ में तैनात असिस्टेंट कमांडेंट राहुल सोलंकी ने राजगीर थाने में दर्ज कराया केस
  • 7 जनवरी को सिपाही पर खौलता पानी फेंके जाने की सूचना सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी
  • मामले को दैनिक भास्कर ने प्रमुखता से उठाया था, इसी के बाद दर्ज की गई रिपोर्ट

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2020, 03:00 AM IST

बिहारशरीफ. राजगीर के सीआरपीएफ प्रशिक्षण केंद्र में सिपाही पर खौलता पानी फेंके जाने की घटना में बुधवार को एफआईआर दर्ज कर ली गई। छत्तीसगढ़ के विजापुर में तैनात सीआरपीएफ के असिस्टेंट कमांडेंट राहुल सोलंकी ने राजगीर थाने में केस दर्ज कराया है। इसमें मोकामा के डीआईजी डीके त्रिपाठी को आरोपित किया है।

थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने बताया कि डाक से एफआईआर का आवेदन आया था। इसके बाद रिपोर्ट दर्ज कर ली गई। 7 जनवरी को सिपाही पर खौलता पानी फेंके जाने की सूचना सोशल मीडिया (व्हाट्सएप ग्रुपों) पर तेजी से वायरल हुई थी। खबर की पड़ताल से ज्ञात हुआ कि गर्म पानी से जलकर जख्मी हुए मेस के 64 बटालियन के सिपाही अमोल खरात का इलाज विम्स अस्पताल में कराया जा रहा है।

प्रशिक्षण केंद्र के सहायक कमांडेंट पीएन मिश्रा ने गर्म पानी से सिपाही के जलने की पुष्टि करते हुए बताया था कि यह दुर्घटना है। जबकि वायरल सूचना में मोकामा के डीआईजी डीके त्रिपाठी पर आरोप लगाया गया था। इस खबर को 8 जनवरी को दैनिक भास्कर ने देश के कई संस्करणों में प्रकाशित किया। इसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया। पारा मिलिट्री एसोसिएशन ने मोर्चा खोलते हुए कार्रवाई की मांग की। जिसके बाद छत्तीसगढ़ के असि. कमांडेंट ने केस दर्ज करा दिया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना