राजनीति / जदयू के भोज में पहुंचे राजद विधायक फराज फातमी, कहा- एनआरसी पर तेजस्वी की यात्रा का मतलब नहीं

वशिष्ठ नारायण सिंह के घर आयोजित मकर संक्रांति के भोज में शामिल होने पहुंचे फराज फातमी। वशिष्ठ नारायण सिंह के घर आयोजित मकर संक्रांति के भोज में शामिल होने पहुंचे फराज फातमी।
X
वशिष्ठ नारायण सिंह के घर आयोजित मकर संक्रांति के भोज में शामिल होने पहुंचे फराज फातमी।वशिष्ठ नारायण सिंह के घर आयोजित मकर संक्रांति के भोज में शामिल होने पहुंचे फराज फातमी।

  • फातमी ने नीतीश कुमार की तारीफ की, कहा- सीएम ने एनआरसी पर तस्वीर साफ कर दी है
  • तेजस्वी को अपनी यात्रा के बारे में सोचना चाहिए, राजद के सभी नेताओं को भी सोचना चाहिए

दैनिक भास्कर

Jan 15, 2020, 03:52 PM IST

पटना. मकर संक्रांति के अवसर पर बुधवार को एनडीए और महागठबंधन दोनों तरफ भोज का आयोजन किया गया है। जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह द्वारा दिए गए भोज में जहां जदयू, भाजपा और लोजपा के नेता पहुंचे। वहीं वशिष्ठ नारायण सिंह द्वारा आयोजित भोज में राजद विधायक फराज फातमी भी पहुंचे। इस दौरान फातमी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ की।

कहा- नीतीश से बड़ा कोई चेहरा नहीं

फातमी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने एनआरसी पर तस्वीर साफ कर दी है। ऐसे में तेजस्वी को अपनी यात्रा के बारे में सोचना चाहिए। इसपर राजद के सभी नेताओं को भी सोचना चाहिए। अब एनआरसी के विरोध में किसी यात्रा का मतलब नहीं है। मुख्यमंत्री के स्पष्टीकरण के बाद स्थिति साफ हो गई। बिहार में नीतीश कुमार से बड़ा कोई चेहरा नहीं है। 2020 में वही सरकार बनाएंगे। फातमी ने जेडीयू के भोज में शिरकत करने को गैर राजनीतिक बताया। उन्‍होंने कहा कि यह सामाजिक सरोकार का मामला है। इसमें कोई राजनीति नहीं है। मकर संक्रांति पर एक-दूसरे से मिलने की परंपरा रही है।

कौन हैं फराज फातमी?
फराज फातमी पूर्व केंद्रीय मंत्री और राजद के कद्दावर नेता रहे अली अशरफ फातमी के बेटे हैं। पिछले साल लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने की वजह से अली अशरफ फातमी ने राजद छोड़ दिया था और चुनाव के बाद जदयू का दामन थाम लिया था। तभी से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि फराज फातमी भी राजद छोड़ सकते हैं। बुधवार को जदयू के भोज में शामिल होकर फातमी ने अटकलों को बल दिया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना