पटना / ट्रेन में चोरी करने वाले गिरोह के 12 शातिरों को आरपीएफ ने रांची में दबोचा, सरगना मुंगेर का

आरपीएफ की गिरफ्त में गिरोह के सरगना व अन्य शातिर । आरपीएफ की गिरफ्त में गिरोह के सरगना व अन्य शातिर ।
बरामद नकदी और जेवर। बरामद नकदी और जेवर।
X
आरपीएफ की गिरफ्त में गिरोह के सरगना व अन्य शातिर ।आरपीएफ की गिरफ्त में गिरोह के सरगना व अन्य शातिर ।
बरामद नकदी और जेवर।बरामद नकदी और जेवर।

  • बिहार, झारखंड, बंगाल व ओडिशा में ट्रेनाें को बनाते थे निशाना, 15 साल से थे सक्रिय
  • 12 लाख के जेवर भेज चुके थे मुंगेर, 56 हजार कैश, 90 हजार के जेवर जब्त

दैनिक भास्कर

Feb 06, 2020, 09:31 AM IST

पटना/रांची. ट्रेनाें में चाेरी करनेवाले शातिर गिराेह का आरपीएफ ने खुलासा किया है। सरगना मंुगेर के प्रदीप मंडल सहित 12 काे मंगलवार को चलती ट्रेन से गिरफ्तार किया। उनके पास से 56500 रुपए अाैर 90 हजार के जेवर बरामद किए। सरगना ने बताया कि चार दिन में चाेरी कर करीब 12 लाख के 30 ताेला जेवर को उसने मुंगेर भेज दिया। वहां का अशाेक साव सारे जेवर खरीदता है। गिरफ्तार शातिरों में प्रदीप, अजय, धर्मेंद्र, रवि व मुकेश मुंगेर, ललन भागलपुर, संताेष व हेमकांत कटिहार, दीपांकर पाकुड़, अजय, रामजी तांती व ईश्वर चंद साव खगड़िया के रहने वाले हैं। यह गिराेह बिहार, झारखंड, बंगाल अाैर ओडिशा की लाेकल ट्रेनाें में 15 साल से चाेरी कर रहा था।

5 दिन से रांची के हाेटल में ठहरा हुआ था गिराेह 
31 जनवरी काे भागलपुर से ट्रेन से सरगना समेत 12 लाेग रांची पहुंचे थे अाैर स्टेशन राेड स्थित जनता अाैर सम्राट हाेटल में ठहरे थे। पांच दिनाें से लगातार रांची-मुरी रेलखंड पर लाेकल ट्रेनाें में यात्रियाें का सामान उड़ा रहे थे। रांची से कीता अाैर मुरी तक जाते थे, फिर वहां से दूसरी लाेकल ट्रेन पकड़कर रांची अा जाते थे। गुप्त सूचना मिलने पर आरपीएफ की 12 सदस्यीय विशेष टीम ने पीछा किया और चलती ट्रेन से इन्हें धर दबाेचा।

बैग सही सलामत और अंदर से जेवर-रुपए गायब
मिली जानकारी के अनुसार यह गिरोह यात्रियाें के बैग के अंदर से जेवर अाैर पैसे इतनी सफाई से उड़ाता था कि उन्हें शक भी नहीं हाेता था कि महंगे सामान ट्रेन से गायब हुए या घर या रिश्तेदार के घर से। ट्रेन से उतरने पर बैग चेक किया जाता था तो सही सलामत दिखता था। असलियत घर जाकर पता चलता था। ऐसे कई मामले आरपीएफ के पास आए लेकिन चोरी कहां हुई यह बताने में यात्री नाकाम रहे और केस दर्ज नहीं किए जा सके।

आरपीएफ की बड़ी उपलब्धि

रांची रेल डिवीजन के सीपीआरओ नीरज कुमार ने बताया कि यह आरपीएफ की बड़ी उपलब्धि है। चाेराें के गिराेह का पर्दाफाश किया गया है जाे रांची में रहकर लाेकल ट्रेनाें में चाेरी करता था। आगे भी इस तरह कार्रवाई हाेती रहेगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना