पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • RTI Activist Shot Dead, Wife Quash: Police Did Not Give Security

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आरटीआई कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या, पत्नी बोली- थानेदार ने नहीं दी सुरक्षा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मोतिहारी. बिहार के मोतिहारी जिले के पीपराकोठी के मठबनवारी स्थित एनएच 28 पर मंगलवार को दिनदहाड़े बेखौफ अपराधियों ने बाइक सवार आरटीआई कार्यकर्ता राजेंद्र सिंह को गोली मार दी। स्थानीय लोगों के सहयोग से पुलिस ने राजेंद्र को सदर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मृतक संग्रामपुर थाना क्षेत्र के राजपुर मंगलापुर निवासी हैं। राजेंद्र की पत्नी के बयान पर ओम प्रकाश कुमार उर्फ सुभाष यादव, सत्येंद्र सिंह, सुधांशू कुमार सिंह, अजय सिंह उर्फ मुलु सिंह, प्रमोद कुमार सिंह उर्फ चुन्नू सिंह के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है। 

 

सोमवार को राजेंद्र अपनी पंचायत के पूर्व सरपंच राकेश सिंह की बेटी के तिलक में शामिल होने मोतिहारी आए थे। मंगलवार को मोतिहारी कोर्ट में एक केस की तारीख थी, जहां से पैरवी कर वह अपनी बाइक से घर जा रहे थे। इस दौरान रतनपुर-मठबनवारी के बीच बाइक सवार अपराधियों ने ओवरटेक कर उनपर अंधाधुंध फायरिंग की। राजेंद्र को तीन गोलियां लगीं। एक गोली सीने में व दो पेट में लगी थी। पुलिस ने मैगजीन बरामद की है। 

 

महत्वपूर्ण फाइल ले गया था सत्येंद्र
दरवाजे पर पहुंचे थानाध्यक्ष चंदन कुमार पर स्पष्ट तौर पर आरोप लगाते हुए राजेंद्र की पत्नी कहा कि आपने पैसा लेकर मेरे पति के विरोधियों को संरक्षण दिया है। जब भी मेरे पति पर हमला हुआ आपने हर केस में अपराधियों से पैसा लेकर मामले की लीपापोती की। मेरे पति को कानून से कहीं भी न्याय नहीं मिला और सबने मिलकर आखिर उनकी हत्या कर ही दी। उन्होंने कहा कि 15 दिन पहले उनके पति की अनुपस्थिति में सत्येंद्र सिंह सहित उसके सहयोगियों ने 20 महत्वपूर्ण फाइलों को घर से जबर्दस्ती ले लिया। इस बात की जब प्राथमिकी दर्ज कराने की बात हुई तो थानाध्यक्ष और डीएसपी ने थाने में ही पंचायती कर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया। यदि पुलिस कार्रवाई की होती तो आज उनके पति जीवित होते। 

 

कई शिक्षकों का हुआ था नियोजन रद्द तो कई ने दिया था इस्तीफा 
राजेंद्र की मुहिम के प्रभाव का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता कि उनके द्वारा मांगी गई सूचना से घबराकर शिक्षा विभाग में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरी कर रहे चार शिक्षकों ने स्वयं इस्तीफा दे दिया था तो कइयों का नियोजन भी रद्द किया गया था। उन्होंने प्रखंड के दो पीडीएस दुकानदारों की अनुज्ञप्ति भी रद्द कराई थी। कई स्थानीय जनप्रतिनिधि पर उनके द्वारा पूछे गए सवालों के कारण जांच चल रही है। प्रखंड का के कई अधिकारियों पर राजेंद्र ने मुकदमा किया था। लगभग चार दर्जन मुकदमे कोर्ट में उनके द्वारा लड़े जा रहे थे। 

 

हिस्सेदारी का भी चल रहा था विवाद 
राजेंद्र सिंह की पत्नी ब्रज किशोरी देवी ने रोते-बिलखते बताया कि उनके पति 10 साल से सरकारी कार्यालयों में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम छेड़े हुए थे। इसमें कई अधिकारी और जन सेवकों को जेल भी हुआ था। साथ ही मृतक के छोटे भाई सत्येंद्र सिंह से हिस्सेदारी का विवाद भी चल रहा था। भ्रष्टाचार के विरुद्ध उनका मुहिम कई विभागों में चल रहा था। राजेंद्र के भाई सत्येंद्र, भतीजा सुधांशु सिंह, चुन्नू सिंह, मुलु सिंह और एक भूतपूर्व मुखिया ने पांच बार राजेंद्र पर जानलेवा हमला कराया था। 2016 में बिना नंबर की कमांडर जीप ने उन्हें ठोकर मारा था। घटना में राजेंद्र बाल-बाल बच गए थे। हालांकि, उनका पैर टूट गया था। 2017 में घर पर हमला कर उनके साथ मारपीट की गई थी। धारदार हथियार से उन्हें काटने का प्रयास किया गया था। इस घटना में भी वह बाल-बाल बच गए थे। 

 

राजेंद्र सिंह ने जताई थी आशंका- हत्या करवा सकते हैं भ्रष्टाचारी अफसर 
राजेंद्र की बड़ी बेटी मधु पांडेय ने आक्रोशित लहजे में कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके पिता ने जो मुहिम छेड़ी हुई थी, उसी कारण से उनकी जान गई है। स्व सिंह ने शिक्षा विभाग के बीईओ परमानंद कुमार को जेल भिजवाया था तो कृषि विभाग, स्वास्थ्य विभाग, कई बीडीओ सहित पुलिस विभाग के आला अधिकारियों पर भी प्राथमिकी दर्ज कराई थी। मधु ने बताया कि मेरे पिता को पूर्व से ही आशंका थी कि उनकी मुहिम से त्रस्त लोगों द्वारा हत्या की जा सकती है। इस बात को लेकर मैं खुद पिता के साथ थानाध्यक्ष चंदन कुमार से पिता की सुरक्षा की गुहार लगाई थी, लेकिन पुलिस ने कोई संज्ञान नहीं लिया। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें