बिहार / 11 साल की बच्ची से रेप मामले में राजद विधायक अरुण यादव के आवास पर मारा छापा



पटना सचिवालय स्थित विधायक अरुण यादव का फ्लैट। पटना सचिवालय स्थित विधायक अरुण यादव का फ्लैट।
X
पटना सचिवालय स्थित विधायक अरुण यादव का फ्लैट।पटना सचिवालय स्थित विधायक अरुण यादव का फ्लैट।

  • पटना सचिवालय स्थित फ्लैट पर पहुंची एसआईटी और एफएसएल की टीम
  • 11 वर्षीय पीड़िता के 164 के दोबारा दिए गए बयान के बाद आया नया मोड़

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 11:04 AM IST

पटना/आरा. 11 साल की बच्ची के साथ रेप के मामले में भोजपुर पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। आरा के संदेश से राजद विधायक अरुण यादव के खिलाफ आरा पुलिस को साक्ष्य मिल जाने के बाद इस केस के लिए गठित एसआईटी ने विधायक के सरकारी आवास में बुधवार को छापेमारी की। 

 

विधायक का सरकारी आवास सचिवालय थाना इलाके में हार्डिंग रोड में 28 नंबर है। पटना पुलिस और एफएसएल की टीम भी आरा पुलिस के साथ गई थी, लेकिन विधायक नहीं मिले। टीम का नेतृत्व एएसपी अभियान नितिन कुमार, एसडीपीओ सदर पंकज कुमार कर रहे थे। एक अधिकारी ने बताया कि इस मामले में विधायक के फ्लैट पर छापेमारी की गई। यही नहीं आरा पुलिस ने उनके अगिआंव स्थित पैतृक आवास पर भी दबिश दी लेकिन वे नहीं मिले। कयास लगाया जा रहा है कि गिरफ्तारी के डर से विधायक कहीं छिप गए हैं।

 

साक्ष्य मिलने के बाद एसआईटी ने शुरू की कार्रवाई
पुलिस विधायक पर दर्ज अन्य मामलों की कुंडली खंगालने में जुटी है। इस मामले में एक महिला संचालिका, उसका दलाल संजीव, मनरेगा के इंजीनियर नीतीश कुमार व मास्टरमाइंड संजय और जीजा को पुलिस ने जेल भेज दिया है। अरुण के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट लेने के लिए इस केस के आईओ चंद्रशेखर गुप्ता ने बुधवार को आरा के प्रथम जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह पॉक्सो एक्ट के विशेष न्यायाधीश आरके सिंह के कोर्ट में अर्जी दी थी। आवेदन में तकनीकी त्रुटि होने के कारण कोर्ट ने अर्जी लौटा दी, इस वजह से विधायक की गिरफ्तारी का वारंट नहीं मिला।

 

केंद्रीय मंत्री से मिलने के लिए पहुंची थी पीड़िता
डेढ़ सप्ताह पहले आरा में नागरी प्रचारिणी सभागार में केंद्रीय मंत्री आरके सिंह से पीड़िता ने न्याय की गुहार लगाई थी। पीड़िता ने कहा कि अरुण ने मेरे साथ दुष्कर्म किया है। चार महीने हो गए, पर अभी तक मुझे इंसाफ नहीं मिला। वह पटना में बुलाता था। बताते चलें कि लगभग 4 महीने पहले आरा के टाउन थाने की रहने वाली 11 वर्षीय नाबालिग को अनीता व उसके जीजा संजय ने सेक्स रैकेट क दलदल में धकेल दिया था।

 

कोर्ट में अर्जी के पहले से ही अंडरग्राउंड हो गए विधायक
पिछले पांच दिनों से संदेश के विधायक अरूण यादव की सक्रियता कम हो गई है। माना जा रहा कि विधायक को पहले से ही इस मामले में गिरफ्तारी का अंदेशा हो गया था। इसके बाद से वे अंडरग्राउंड हो गए हैं। उनका मोबाइल भी नॉट-रिचेवल आ रहा है। विधायक के बारे में पुलिस अधिकारी भी जानकारी प्राप्त करने में लग गए हैं, जिससे अरुण की गिरफ्तारी का आदेश प्राप्त होते ही उन्हें गिरफ्तार किया जाए। अरुण यादव के बारे में चर्चा है कि वह बिहार छोड़कर किसी दूसरे राज्य में अंडर ग्राउंड हो गए हैं। इस मामले में न उनके रिश्तेदार और ना परिवार के लोग कुछ बता पा रहे हैं।

 

पीड़िता का एक अन्य वीडियो वायरल
सेक्स रैकेट स्कैंडल से जुड़ा एक अन्य वीडियो वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में पीड़िता बोल रही है कि अरुण यादव को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। वायरल हुए वीडियो में पीड़िता को महिला विकास मंच के सदस्यों के साथ दिखाया गया है। मंच से जुड़ी सदस्य यह पूछ रही हैं कि तुम्हें कौन ले गया था; तो बच्ची बोली- अरुण यादव के फ्लैट पर मुझे अनीता ले गई थी। मैं अच्छी जिंदगी जीना चाहती हूं। इधर, एसपी सुशील कुमार ने कहा कि वीडियो वायरल करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। पुलिस अपना काम कर रही है।

 

चर्चा में है फ्लैट नंबर-28
पटना के सचिवालय स्थित फ्लैट नंबर- 28 चर्चा में है। पटना के सचिवालय अवस्थित फ्लाइट नंबर 28 विधायक अरुण यादव का आवास है। आरोप इसी आवास पर लगा है कि अरुण यादव के पास अनीता पीछे के रास्ते से इसी फ्लैट के कमरे में ले जाती थी और उसके साथ यहीं पर दुष्कर्म किया जाता था।

 

अब तक अनिता सहित चार लोगों को भेजा गया है जेल
सेक्स रैकेट कांड में अभी तक संचालिका अनीता, उसका दलाल संजीव, मनरेगा के इंजीनियर नीतीश कुमार एवं मास्टरमाइंड संजय और जीजा को पुलिस ने जेल भेज दिया है। इंजीनियर के गिरफ्तारी के बाद से ही यह अंगुली उठ रही थी कि विधायक पर आखिर क्यों नहीं शिकंजा कसा जा रहा है।

 

विधायक पर दर्ज पुराने केस को भी खंगाल रही पुलिस
11 वर्षीय बच्ची का वीडियो वायरल होने के बाद अब भोजपुर पुलिस इस मामले में आनन-फानन में विधायक की गिरफ्तारी से पहले उनसे जुड़ी कुंडली को खंगालने में जुट गई है। संदेश के विधायक अरुण यादव की गिरफ्तारी से पहले सूत्रों के अनुसार अरुण यादव पर कितने केस दबे हुए हैं उसकी पूरी हिस्ट्री पुलिस खंगाली जा रही है।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना