पटना / छापेमारी के बाद पटाखे की मंडी में सन्नाटा, 10 दुकानदारों को भेजा जेल

Silence in firecrackers market after raids, 10 shopkeepers sent to jail
X
Silence in firecrackers market after raids, 10 shopkeepers sent to jail

  • पश्चिम दरवाजा से लेकर खाजेकलां तक दुकानों में लटक रहे ताले

दैनिक भास्कर

Oct 13, 2019, 07:58 AM IST

पटना सिटी . बिना लाइसेंस पटाखा बेचने के आरोप में गिरफ्तार 10 दुकानदारों को शनिवार को जेल भेज दिया गया है। प्रशासन की कार्रवाई से मंडी में अफरातफरी का माहौल है। पश्चिम दरवाजा से लेकर खाजेकलां के बीच आतिशबाजी की दुकानों में ताले लटक रहे हैं। शनिवार को गिरफ्तारी व कानूनी कार्रवाई के भय से दुकानदारों ने दुकान का ताला नहीं खोला। शुक्रवार को करीब 2 करोड़ के पटाखे को जब्त कर 10 लोगों को हिरासत में लिया गया था।


एसडीओ ने बताया कि दुकानदारों ने छापेमारी के दौरान पटाखा बेचने व भंडारित करने संबंधित लाइसेंस उपलब्ध नहीं कराया। खाजेकलां थानाध्यक्ष सनोवर खां ने बताया कि प्रखंड कल्याण पदाधिकारी के बयान पर दर्ज प्राथमिकी के आधार धंधे से जुड़े 10 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। इनमें शमशाद उर्फ कज्जू, आमिर गजाली, मो अमजद, जुबैर, फैज, तनवीर,अतिउर रहमान, शब्बीर अहमद, नरेश साह, व संतोष साह शामिल हैं। प्रशासन ने कारोबारियों के साथ-साथ मकान मालिकों को भी इस मामले में दोषी करार दिया है, जिन्होंने आतिशबाजी के लिए दुकान किराए पर दिया है। घनी आबादी के बीच आतिशबाजी का भंडारण व बिक्री करना पूरी तरह से खतरनाक है।

 

दुकानदारों में रोष : दुकानदारों का कहना है कि प्रशासन की ओर से मौसमी कारोबार के लिए लाइसेंस उपलब्ध नहीं कराया जाता है। सालों भर यहां पर पटाखा की बिक्री होती है। उस वक्त प्रशासन की नींद नहीं खुलती है। दीपावली से पहले ही कार्रवाई की जाती है। इस स्थिति में कारोबारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है और कानूनी कार्रवाई का दंश भी झेलना पड़ता है। काफी संख्या में लोग कर्ज लेकर मौसमी धंधे से जुड़ते हैं। राजधानी व अन्य जगहों पर बाढ़ व जलजमाव की वजह से पहले से ही कारोबार टूट चुका था।

 

पटाखे की दुकान के लिए अस्थायी लाइसेंस लेना अनिवार्य : पटना| डीएम कुमार रवि ने कहा कि दीपावली के दाैरान पटाखा बेचने के लिए दुकान खाेलने वालाें काे लाइसेंस लेना अनिवार्य है। लाइसेंस लेने के लिए अनुमंडल दंडाधिकारी के कार्यालय में अावेदन के साथ 600 रुपए का ट्रेजरी चालान, शपथ पत्र अाैर दाे पासपोर्ट अाकार का फाेटाे जमा करना है। इसके बाद जांच के उपरांत अनुमंडल दंडाधिकारी द्वारा लाइसेंस जारी किया जाएगा। बगैर लाइसेंस लिए दुकान खाेल कर पटाखा बेचने वाले दुकानदारों के खिलाफ विस्फोटक अधिनियम 1884 अाैर विस्फोटक नियमावली 2008 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना