• Hindi News
  • Bihar
  • Patna
  • Druli News sisters have immersed the villagers with the mongolas reaching the ponds of the pond
--Advertisement--

तालाब के घाटों पर पहुंचकर मंगलगीतों के साथ बहनों ने विसर्जित की पीड़िया

Patna News - दरौली प्रखण्ड के हज़ारों की संख्या में बहनों ने भाई की लम्बी उम्र की कामना करने वाला त्योहार पीड़िया गाजे बाजे के...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 03:10 AM IST
Druli News - sisters have immersed the villagers with the mongolas reaching the ponds of the pond
दरौली प्रखण्ड के हज़ारों की संख्या में बहनों ने भाई की लम्बी उम्र की कामना करने वाला त्योहार पीड़िया गाजे बाजे के साथ मनाया। प्रातः काल से ही दरौली सरयू नदी पंच मंदिर घाट पर गांव गांव से बहने अपनी अपनी पीड़िया को लेकर नदी घाटो पर पहुंचकर मंगल गीतो के साथ विसर्जित की। बहने एक माह से गोबर की पिंडी बनाकर बड़ी आस्था से भाईयो के दीर्घायु हेतु पूजन अर्चन कर रही थी। आज उसी त्योहार का समापन धूमधाम से हुआ। यहां बताते चले कि पीड़िया का त्योहार सदियों से ग्रामीण क्षेत्रों में मनाया जाता है। एक माह तक चलने वाले इस पर्व की शुरुआत भईया दूज के दिन से ही शुरू होती है। भईया दूज के दिन महिलाएं गोबर का गोवर्धन बनाकर पूजती है। बहनें उसी गोबर से अपने भाई के दीर्घायु के लिए गांव के एक स्थान पर अपनी अपनी पीड़िया बनाती है। प्रतिदिन शाम को उस पिण्डी वाले स्थान पर बहनें भाईयो की लम्बी उम्र के लिये आस्था की मंगल गीत गाती है। यह आस्था की प्रक्रिया एक माह तक चलती है। एक माह के पश्चात आने वाले अमावस्या के दिन पीड़िया अपने स्थान से छुड़ाया जाता है। अगले दिन उस पीड़िया का नदी, तालाबों के घाटो पर जल विसर्जित किया जाता है।

X
Druli News - sisters have immersed the villagers with the mongolas reaching the ponds of the pond
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..