बाइपास में एसटीएफ के हत्थे चढ़ा चार साल से फरार इनामी गैंगस्टर

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लंबी लुकाछिपी के बाद शनिवार को 50 हजार का इनामी गैंगस्टर मनीष सिंह एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया। वह एक बाहुबली विधायक का करीबी है। बीते 4 साल से पुलिस को उसकी तलाश थी। 2015 में बाढ़ में बहुचर्चित पुट्‌टूस यादव हत्याकांड समेत कई संगीन मामलों में वह वांछित था। मनीष बेउर इलाके में बड़ी वारदात की साजिश कर रहा था। शुक्रवार की रात इसकी भनक मिलते ही आईजी (आॅपरेशन) खोपड़े के निर्देशन में एसटीएफ हरकत में आ गई। छापे की भनक लगते ही मनीष छिप गया। एसटीएफ उसकी हर मूवमेंट पर नजर रख रही थी। शनिवार सुबह वह पटना छोड़ कर भागने की तैयारी में था। बाइपास पर आते ही उसे एसटीएफ ने घेर कर दबोच लिया। वह बाढ़ के हराैली गांव का मूल निवासी है।

हर बार जून में किया खूनखराबा आैर जून में ही गिरफ्तारी

इसे संयोग कहे या कुछ आैर।... मनीष ने हर बार जून में ही खून किया। उसके आपराधिक रिकाॅर्ड से यह बात सामने आई है। एसटीएफ के मुताबिक 20 जून, 2008 को बाढ़ इलाके में हत्या में मनीष का नाम आया था। 5 साल बाद 12 जून, 2013 को उसके खिलाफ बाढ़ थाने में हत्या का मामला दर्ज किया गया। 18 जून, 2015 को बाढ़ में ही पुट्‌टूस की हत्या में भी वह नामजद है। रोचक पहलू यह है कि जून में खूनी वारदात करने वाला शातिर मनीष जून माह में ही पकड़ा गया। बाढ़, मोकामा व टाल इलाके में उसके आतंक की तूती बोलती थी।

खबरें और भी हैं...