पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समझौता होने तक चलेगी हड़ताल

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति की राज्य कोर कमिटी के सदस्यों ब्रजनंदन शर्मा, प्रदीप कुमार पप्पू, बंशीधर बृजवासी, शिवेंद्र पाठक अादि ने कहा कि जब तक बिहार सरकार वार्ता नहीं करती और सम्मानजनक समझौता नहीं करती तब तक शिक्षक हड़ताल नहीं तोड़ेंगे। शिक्षामंत्री व सरकार की मंशा साफ नहीं है। उन्हें तुरंत वार्ता कर समझौते के लिए पहल करनी चाहिए ताकि विद्यालय खुले और पठन-पाठन सुचारू रूप से चले।

शिक्षक 20वें दिन भी हड़ताल पर डटे रहे। समिति ने स्पष्ट किया है कि अगर होली के पहले सरकार वार्ता नहीं करती है तो शिक्षक होली नहीं मनाएंगे और होलिका दहन के दिन 9 मार्च को पूरे बिहार के सभी प्रखंडों में हड़ताली शिक्षक पुतला दहन करेंगे। वहीं विरोध में शनिवार को कुछ शिक्षकों ने मुंडन कराकर विरोध जताया। गांधी मैदान में गांधी मूर्ति के नीचे मुंडन कराया।

चिराग ने कहा- लोजपा टीईटी शिक्षकों के साथ

पटना| टीईटी शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के संयोजक अमित विक्रम के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार काे सांसद चिराग पासवान से मुलाकात की। उन्हें शिक्षकों की समस्याएं बताई गईं। इस पर चिराग पासवान ने कहा कि टीईटी शिक्षकों के साथ लोजपा खड़ी है और उनकी समस्या को पार्टी अपने विजन डॉक्युमेंट यानी घोषणापत्र में शामिल करेगी।

अधिकांश जिलों में इंटर का मूल्यांकन संतोषजनक

पटना|इंटर अाैर मैट्रिक परीक्षा की कॉपियों के मूल्यांकन की शनिवार को समीक्षा की गई। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन अाैर बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जिलावार समीक्षा की। इसमें पाया गया कि इंटर परीक्षा के मूल्यांकन कार्य की प्रगति अधिकांश जिलों में संतोषजनक है तथा कुछ जिलों में संतोषजनक नहीं है। इस संबंध में डीईओ एवं मूल्यांकन केंद्र निदेशक काे निर्देश दिए गए हैं। अधिकारियों को यह भी कहा गया कि इंटर व मैट्रिक की कॉपियों के मूल्यांकन में योगदान देने वाले शिक्षकों का वेतन शीघ्र जारी किया जाए। हड़ताल पर गए शिक्षक यदि मैट्रिक के मूल्यांकन के लिए लौटना चाहते हैं, तो उनका योगदान कराया जाए।

सरकार सुनिश्चित करे कि हड़ताल किस मौसम में हो

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष केदारनाथ पांडेय व महासचिव शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने कहा कि शिक्षामंत्री बार-बार यह कहते हैं कि यह हड़ताल का मौसम नहीं था। संघ का अनुरोध है कि औचित्यपूर्ण मांगों को लगातार अस्वीकार करने के बाद हड़ताल का मौसम सरकार को ही सुनिश्चित कर देना चाहिए।
खबरें और भी हैं...