राजकीय नेत्रहीन उच्च विद्यालय में छात्रों ने किया जमकर बवाल, हटाए गए प्राचार्य

Patna News - कदमकुअां स्थित राजकीय नेत्रहीन उच्च विद्यालय में मंगलवार को प्राचार्य काे हटाने की मांग काे लेकर छात्रों ने जमकर...

Dec 04, 2019, 08:46 AM IST
Patna News - students in government blind high school furiously removed principal
कदमकुअां स्थित राजकीय नेत्रहीन उच्च विद्यालय में मंगलवार को प्राचार्य काे हटाने की मांग काे लेकर छात्रों ने जमकर बवाल किया। छात्रों ने सुबह से ही स्कूल के मेन गेट पर ताला जड़ दिया। छात्र इतने आक्रोशित थे कि पुलिस-प्रशासन के कहने के बाद भी किसी को अंदर आने या बाहर जाने नहीं दिया। इस कारण प्राचार्य समेत अन्य शिक्षक घंटों बाहर ही खड़े रहे। छात्रों ने जिला प्रशासन, डीईओ एवं स्कूल प्रबंधन के विरोध में नारेबाजी की। कहा कि अगर मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे सड़क पर भी आंदोलन करेंगे।

प्रदर्शन के दाैरान छात्राें ने स्कूल के प्राचार्य पर कई अाराेप लगाए। छात्र सन्नी देओल ने कहा कि दिव्यांग दिवस के अवसर पर हमें अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है। यह हमारे लिए दुर्भाग्य की बात है। छात्रों का कहना था कि प्राचार्य को अविलंब हटाएं। शिक्षक सुमन प्रसाद को वापस लाया जाए। ब्रेल लिपि की पुस्तक दी जाए। स्कूल को प्लस टू का दर्जा दिया जाए। खेल और कंप्यूटर के शिक्षक एवं कंप्यूटर दिया जाए। नेत्रहीन विद्यालयों में कर्मचारियों काे नियमित किया जाए। इसके अलावा खाना की क्वालिटी बेहद घटिया है। प्रतिदिन एक ही तरह का खाना खिलाया जाता है। डीईओ ज्योति कुमार ने स्कूल प्राचार्य विजय कुमार भास्कर को हटा दिया है।

आंखें नहीं तो क्या : मांगों की प्रिंटेड सूची लिए गेट पर अड़े रहे

अपनी विभिन्न मांगों को लेकर कदमकुआं स्थित राजकीय नेत्रहीन विद्यालय मंे तालाबंदी कर प्रदर्शन करते छात्र।

गुस्सा

स्कूल में मामला एनजीओ को लेकर है। जब स्कूल में हंगामा हो रहा था, उस वक्त भी एनजीओ के कार्यकर्ता प्रदर्शनकारी बच्चों के लिए समोसा और लिट‌्टी लेकर आए थे। हालांकि, जब लोगों ने विरोध किया तो एनजीओ के कार्यकर्ता निकल गए। जिस शिक्षक को हटाया गया है, उन पर भी एनजीओ चलाने का अाराेप है। वहीं वर्तमान प्राचार्य पर भी बच्चों ने एनजीओ के संचालन का आरोप लगाया है। दूसरी ओर प्रदर्शनकारी बच्चों के पास प्रशासन और मीडिया के लोग पहुंचे तो बच्चे उन्हें पहले से ही लिखित प्रेस रिलीज दे रहे थे। शिक्षकों एवं लोगों ने कहा कि बच्चों को भोजन करवा दिया गया है।

प्राचार्य पर भी बच्चों ने लगाया एनजीओ के संचालन का आरोप

आश्वासन

26 नवंबर को छात्रों ने किया था हंगामा

भोजन की खराब गुणवत्ता, लगातार एक ही भोजन कराने, अधिकार रैली में भाग नहीं लेने सहित अन्य मुद्दों काे लेकर 26 नवंबर काे भी छात्रों ने स्कूल में हंगामा करते हुए प्राचार्य को बंधक बनाकर रखा था। दिन भर हंगामे के बाद डीईओ ने उनकी मांगों काे पूरा करने का आश्वासन देते हुए एक शिक्षक की प्रतिनियुक्ति समाप्त कर दी थी।

धमकी मिली : प्राचार्य

इधर, प्राचार्य विजय कुमार भास्कर ने कहा कि कुछ एनजीओ वाले छात्रों को उकसा रहे हैं। इन बच्चों को रैली में ले जाना चाह रहे थे, मैंने मना किया तो यह समस्या हो रही है। यहां तक कि मुझे जान से मारने की धमकी भी दी गई है। इसकी लिखित शिकायत कदमकुअां थाने में दी है। इस तालाबंदी की वजह से नेट की परीक्षा से वंचित रह गया। मैंने ही स्कूल के हर मद की राशि बच्चों की भलाई के लिए बढ़वाई है।

X
Patna News - students in government blind high school furiously removed principal
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना