पटना / स्वामी ने कहा- बिहार में ‘छोटा भाई’ बनकर रहे जदयू, वशिष्ठ बोले- सरकार आलोचना नहीं काम से चलती है



राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी (फाइल फोटो)) राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी (फाइल फोटो))
X
राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी (फाइल फोटो))राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी (फाइल फोटो))

  • हिदायत के बाद गिरिराज ने साधी चुप्पी तो सुब्रह्मण्यम ने बयानों को दी हवा
  • जदयू ने कहा- सरकार काम से चलती है, आलोचना से नहीं, आपस में बयानबाजी ठीक नहीं होती है

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2019, 08:47 AM IST

पटना. बिहार में इकट्ठे सरकार चला रहे भाजपा और जदयू के नेताओं की जुबानी जंग बढ़ती जा रही है। मजेदार कि आपसी लड़ाई के दौरान दोनों पार्टियां यह भी कह रही हैं कि उनकी चट्टानी एकता कायम है, यह आगे भी रहेगी; विपक्ष कुर्सी के लिए लार टपकाना बंद करे। उसे कुछ नहीं मिलने वाला। बुधवार को इन दोनों सहयोगियों के बीच तनातनी तब शुरू हुई, जब भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा कि अगर जदयू को बिहार में अपनी राजनीति बचानी है, तो उनको छोटे भाई की भूमिका में रहना पड़ेगा। बिहार में अब भाजपा बड़े भाई की भूमिका में है। देश भर में लोग भाजपा को पसंद कर रहे हैं और उसकी लहर है। ऐसे में अगर 2020 का चुनाव नीतीश कुमार को जीतना है तो उन्हें भाजपा के साथ छोटे भाई की भूमिका में रहना होगा। जदयू अकेले चुनाव लड़ता है तो उनकी स्थिति बेहद कमजोर हो जाएगी।

 

एनडीए में सबकुछ ठीक-ठाक है, पर आपस में बयानबाजी ठीक नहीं होती

यह बात जदयू को बिल्कुल नहीं पची। जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह कहा कि सरकार काम से चलती है, आलोचना से नहीं। आपस में बयानबाजी ठीक नहीं होती है। आपदा के समय लोगों की मदद करना सरकार की प्राथमिकता होती है। प्राकृतिक आपदा पर राजनीति की रोटी सेंकना ठीक नहीं होता। गिरिराज सिंह हमेशा से सवाल उठाते रहते हैं, लेकिन हम कभी जवाब नहीं देते। हालांकि उन्होंने यह बात साफ कर दी कि बिहार एनडीए में सबकुछ ठीक-ठाक है। और, उपचुनाव में एनडीए के नेता मिलकर चुनाव प्रचार करेंगे। उपचुनाव का भी नतीजा लोकसभा की तरह रहेगा। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के राजद में जदयू के ‘नो इंट्री’ वाले बयान पर वशिष्ठ ने कहा कि ये फालतू की बातें हैं। जदयू कहीं जाने वाला नहीं है। कुछ लोग केवल वाहवाही लेने के लिए अनाप-शनाप बयान देते रहते हैं। तेजस्वी दिन में सपने देख रहे हैं। जदयू का राजद के साथ गठबंधन का कोई सवाल ही नहीं उठता है।
 

 

राजद ने जदयू को अकेले चुनाव लड़ने की चुनौती दी

जदयू व भाजपा नेताओं की जुबानी लड़ाई ने विपक्ष खासकर राजद को बोलने का मौका दिया। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने जदयू को अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने की चुनौती दी। तेजस्वी का कहना था कि अगर जदयू अकेले चुनाव लड़ा, तो उसकी हालत खस्ता हो जाएगी। उनके अनुसार, राजधानी पटना में डिप्टी सीएम को ही रेस्क्यू करना पड़ा। भाजपा और जदयू में सब ठीकठाक नहीं है।

 

संजय बोले- आपकी मटरगश्ती जनता निकाल देगी

प्रदेश जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से कहा-आपको क्रिकेट में तो कभी वाईस कैप्टन बनने का मौका मिला नहीं। राजनीति में एक बार अवसर मिला भी, तो आप करप्शन के बल्ले से खुद हिट विकेट हो गए। खेल हो या राजनीति ईमानदारी बेहद जरूरी है लेकिन आपसे यह होता ही नहीं। पटना के लोग जब पानी में डूब रहे थे तब आप दिल्ली में मस्ती कर रहे थे। अब सरकार के प्रयास से जलजमाव से मुक्ति मिली है तब आप उपचुनाव जीतने के लिए फिर टपक गए हैं। यहां के लोग आपकी मटरगश्ती को जान गए हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना