--Advertisement--

\'लालू-लीला\' / सुशील मोदी बोले-लालू यादव ने जितना मैं जानता हूं, उतना राबड़ी भी नहीं जानती



सुशील मोदी की किताब 'लालू-लीला' का लोकार्पण सुशील मोदी की किताब 'लालू-लीला' का लोकार्पण
X
सुशील मोदी की किताब 'लालू-लीला' का लोकार्पणसुशील मोदी की किताब 'लालू-लीला' का लोकार्पण
  • सुशील मोदी की पुस्तक \'लालू-लीला\' का लोकार्पण
  • लालू ने संपत्ति अर्जित करने में राबर्ट वाड्रा को भी पीछे छोड़ा: मोदी

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2018, 06:57 PM IST

पटना. गुरुवार को विद्यापति भवन में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की पुस्तक 'लालू-लीला' का लोकार्पण किया गया। इस मौके पर सुशील मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद को जितना मैं जानता हूं उतना राबड़ी भी नहीं जानती। पिछले 48 सालों से लालू यादव को जानता हूं। उनका उत्कर्ष और पराभव दोनों देखा है। 

 

राबड़ी-तेजस्वी को भी कोई बचा नहीं सकता
सुशील मोदी ने कहा कि लालू ने अपने और अपनी पत्नी के कार्यकाल में अकूत संपत्ति बनायी। इस समय लालू परिवार के पास 141 भूखंड, 30 फ्लैट और आधा दर्जन मकानों के मालिक हैं। महज 30-35 साल के राजनीतिक करियर में इतनी संपत्ति कोई अर्जित कर सकता है क्या? लालू यादव ने संपत्ति अर्जित करने में राबर्ट वाड्रा को भी पीछे छोड़ दिया। अपने कृत्यों के कारण लालू यादव तो जेल पहुंच गए। राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव को भी कोई नहीं बचा सकता। दोनों को जेल जाना ही है।

 

लालू ने ताकत का किया दुरुपयोग
मोदी ने कहा कि लालू से ताकतवर राजनेता देश के किसी राज्य में नहीं हुआ, जिसकी एक आवाज पर गांधी मैदान में लाखों लोग जुट जाते थे। लेकिन उन्होंने अपनी ताकत का दुरुपयोग किया और अकूत संपत्ति कमायी। इसकी परिणति क्या हुई? आज जेल में हैं। 

 

नीतीश ने कभी भ्रष्टाचार से समझौता नहीं किया
लालू ने जो कुछ किया, उसकी परिणति यही होनी थी। विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को बताना होगा कि महज 29 साल में वे 47 भूखंडों व 5 मकान के मालिक कैसे बन गए? कहां से उनके पास इतनी संपत्ति आई? नीतीश कुमार कभी भ्रष्टाचार से समझौता नहीं कर सकते। लालू परिवार का भ्रष्टाचार सामने आने के बाद उनका साथ रहना संभव ही नहीं था।

 

लालू ने आम लोगों का हक मारा
केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि यह बड़ी विचित्र बात है कि जेपी आंदोलन से निकला व्यक्ति कैसे भ्रष्टाचार में संलिप्त हो सकता है। जेपी आंदोलन का नारा ही था- भ्रष्टाचार मिटाना है, नया बिहार बनाना है। लालू यादव भी इसके हिस्सा रहे। उन्हें जनता ने अकूत ताकत दी और उन्होंने उससे आम लोगों की ही हकमारी शुरु कर दी। खजाने को लूटा और अरबों की संपत्ति बना ली। 

 

चारा घोटाले से भी लालू ने नहीं ली सीख
लालू ने चारा घोटाले के बाद हुई अपनी दुर्दशा से कोई सीख नहीं ली और फिर से लूट में जुट गए। सामान्य परिवार से आने वाला व्यक्ति कुछ ही दिनों के करियर में इतनी संपत्ति अर्जित कर ले तो सवाल उठना स्वाभाविक है। भ्रष्टाचार करके कोई व्यक्ति बच नहीं सकता। लालू यादव इसके प्रमाण हैं। समारोह में केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, रामकृपाल यादव, राजीव प्रताप रुड़ी, प्रेम कुमार, नंदकिशोर यादव समेत कई नेता मौजूद थे।

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..