पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सद‌्गुणों से परिपूर्ण मातृत्व भाव वाली नेता थीं सुषमा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
केंद्रीय गृह राज्यमंत्री व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने सुषमा स्वराज के दिल्ली स्थित निवास स्थान पर जाकर पुष्पांजलि अर्पित कर अश्रुपूरित श्रद्धांजलि दी। उन्होंने शोक संतप्त उनके परिजनों से मिलकर दुख साझा किया और ढांढ़स बंधाया। कहा कि उनका निधन देश की राजनीति में पैदा हुए उस शून्य की तरह है, जिसकी भरपाई कभी नहीं की जा सकती। वे एक सहज स्वभाव व सद्गुणों से परिपूर्ण एक मातृत्व भाव वाली नेता थीं जिनके सानिध्य में एक समूची पीढ़ी को भाजपा में पलने- बढ़ने का मौका मिला है। केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि विलक्षण प्रतिभा, विराट व्यक्तित्व की धनी सुषमा जी को यूं ही राजनीति का अजातशत्रु नहीं कहा जाता है। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने कहा कि सुषमा स्वराज का जाना भारतीय राजनीति की बड़ी क्षति है। वह ओजस्वी-प्रखर वक्ता, अत्यंत कुशल मंत्री, मर्यादा व मूल्यों की राजनीति कर राजनीति पर छाप छोड़ने वाली नेत्री थीं।

सादगी पसंद थीं : स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि वे सादगीपसंद, कर्तव्यनिष्ठ, ईमानदार और आदर्शवादी नेत्री थी। मंत्री डॉ. अशोक चौधरी ने कहा कि वह विलक्षण प्रतिभा की धनी थीं। उनके कार्य हमेशा याद रहेंगे। जदयू के राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह ने कहा कि सुषमा स्वराज करोड़ों भारतीयों की प्रेरणास्रोत थीं। मुझे विदेश मामलों की संसदीय समिति में उनसे साथ काम करने का मौका मिला था। बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव ने कहा कि वे हमारे बीच नहीं हैं, सिर्फ उनकी स्मृतियां शेष हैं। हिंदी भाषा और साहित्य पर उनकी अच्छी पकड़ थी। वे एक प्रखर वक्ता थीं।

मिलनसारिता व बेबाकपन के लिए किया जाएगा याद

उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि भारतीय राजनीति की सशक्त नेत्री, प्रखर वक्ता सुषमा स्वराज ने पार्टी और सरकार में अपनी हर भूमिका का बेहतरीन निर्वहन करते हुए हमेशा एक उच्च मानक स्थापित किया है। उनके निधन की खबर से स्तब्ध हूं। विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने कहा कि भारतीय राजनीति में उन्हें उनकी ईमानदारी, सादगी, मिलनसारिता और बेबाकपन के लिए हमेशा याद किया जाएगा। आईपीआरडी मंत्री नीरज कुमार ने कहा कि देश ने एक महान विद्वान, राष्ट्रभक्त और मानवीय संवेदना से परिपूर्ण राजनेता को खो दिया है। उनके प्रशंसक सभी दलों में थे।

इन्होंने भी जताया शोक

विधान परिषद के कार्यकारी सभापति हारुण रशीद, मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव, श्याम रजक, संजय झा, नंदकिशोर यादव, डॉ. प्रेम कुमार, प्रदेश जदयू अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, एमएलसी डॉ. रणवीर नंदन, राजीव रंजन प्रसाद, अरविंद निषाद, नंदकिशोर कुशवाहा, अभय कुशवाहा, ओमप्रकाश सिंह सेतु, डॉ. नवीन कुमार आर्य, मृत्युंजय सिंह, शिवशंकर निषाद, प्रियरंजन पटेल, अप्सरा मिश्रा, पंकज सिंह, नागेन्द्रजी, शिवनरायणजी, नीतीश मिश्र, सम्राट चौधरी, शिवेश राम, अनिल शर्मा, निवेदिता सिंह, राधामोहन शर्मा, सुशील चौधरी, प्रमोद चंद्रवंशी, अनिल सिंह, जगन्नाथ ठाकुर, प्रवीण तांती, अमृता भूषण, पिंकी कुशवाहा, यूपी विश्वकर्मा, रूप नारायण मेहता, नवल किशोर यादव, संजय टाईगर, प्रेम रंजन पटेल, अजीत चौधरी, अजफर शम्सी, सुरेश रूंगटा, सुबोध पासवान, रंजन कुमार गौतम, अखिलेश सिंह, नितिन नवीन, अरुण कुमार सिन्हा, संजीव चौरसिया, डॉ. आरआर कनौजिया पंकज सिंह, राजीव रंजन, राकेश सिंह, अशोक भट्ट, पुरुषोत्तम कुमार, मनीष कुमार, प्रवीण राय, देवेश कुमार, राजेन्द्र सिंह, मिथिलेश तिवारी, श्यामा सिंह, सम्राट चौधरी, राजेन्द्र गुप्ता, ऋतुराज सिन्हा, निखिल आनंद, अभय गिरी, उपेंद्र चौहान, नरेश महतो, बीनू सिंह, नीलमणि पटेल, सुमन कुमार मल्लिक, रंजीत कुमार झा, दिवाकर सिंह, असीम सिंह, अभय सिंह, शशिशेखर सिंह, अरुण फौजी, मनोज सिंह, उपेंद्र सिंह आदि।

खबरें और भी हैं...