मॉनसून सत्र / जल्द ही नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त लागू की जाएगी: शिक्षा मंत्री



The service condition of employed teachers will be implemented soon: Education Minister
X
The service condition of employed teachers will be implemented soon: Education Minister

  • सत्तापक्ष से लेकर विपक्षी सदस्यों ने शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा को सदन में घेरा

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 07:44 PM IST

पटना. बिहार के नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त पर विधानपरिषद में शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा को सत्तापक्ष से लेकर विपक्षी सदस्यों ने घेरा और कहा कि सरकार नियोजित शिक्षकों के लिए जल्द सेवा शर्त बनाए और उस लागू करे। खुद को घिरता देख शिक्षा मंत्री ने कहा कि सेवा शर्त को लागू करने को लेकर सरकार गंभीर है। शिक्षा विभाग इस दिशा में काम कर रहा है। 

 

हालांकि मंत्री ने माना की विभागीय स्तर पर कुछ परेशानी हुई थी। लेकिन सारी समस्या को दूर कर लिया गया है। जल्द नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त को लागू की जाएगी। दरअसल केदार पांडेय ने शिक्षा मंत्री से सवाल पूछा कि आखिर कितने दिनों में नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त को बिहार सरकार लागू करेगी। मंत्री को घेरते हुए उन्होंने पूछा कि विभागीय मंत्री बताएं कि एक महीने में बनेगा या छह महीने में। इस पर जदयू सदस्य संजीव सिंह भाजपा के नवल किशोर यादव ने कहा कि मंत्री को आज ही सदन में बताना होगा कि कितने महीनों में नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त तैयार हो जाएगा। इस पर विधान परिषद के कार्यकारी सभापति हारुण रशीद ने मंत्री का बचाव किया। शिक्षा मंत्री पर चुटकी लेते हुए कहा कि शिक्षा मंत्री आज शेर नहीं पढ़े हैं, इसलिए सदस्य उनको घेरे हुए हैं । सभापति ने कहा कि मंत्री जी कुछ समय सीमा तय कीजिए और अपने अंदाज में कुछ शेर पढ़िए तभी सदस्य शांत होंगे। मंत्री ने कहा सदस्यों की रजा में भी मेरी रजा है।

 

वहीं विधान पार्षद नवल किशोर यादव के तारांकित प्रश्न के जरिए राजकीयकृत प्रारंभिक एवं माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मियों की अनुकंपा के अधार पर नियोजन से प्रावधान का मामला उठाया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि पूर्व क्षेत्रीय समिति राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के निर्देश के बाद शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए अभ्यार्थी को शिक्षा प्रशिक्षण पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण होना आश्वयक है।इसके कारण सेवारत शिक्षक की मृत्यु के बाद उनके अप्रशिक्षित आश्रित की अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति नहीं की जा रही है।

COMMENT