संत चेतना के प्रतीक थे रविदास

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना| मंत्रिमंडल सचिवालय राजभाषा विभाग की ओर से गुरुवार को अभिलेख भवन में संत रविदास, पंडित सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, फणीश्वरनाथ रेणु एवं सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय की जयंती मनी। इसमें वक्ताओं ने इन मनीषियों के जीवन वृत पर विस्तार से चर्चा की। अध्यक्षता सत्यनारायण तथा स्वागत निदेशक इम्तियाज अहमद करीमी ने किया। विशिष्ट अतिथि जेपी यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. हरिकेश सिंह ने संत रविदास को संत चेतना का प्रतीक बताया और उनकी उत्कृष्टता स्वीकार किया। विजय कुमार शांडिल्य, नागेंद्र कुमार शर्मा, डॉ. अजय कुमार, सिंधु कुमारी आदि ने विचार रखे। वहीं कवि गोष्ठी में प्रेम किरण, चंदन द्विवेदी, विजय गुंजन, श्रीकांत व्यास, ह्दय नारायण झा, डॉ. प्रतिभा कुमारी, श्रीकांत सिंह, वीणा बेनीपुरी, डॉ. अन्नपूर्णा श्रीवास्तव आदि ने काव्य पाठ किया। धन्यवाद ज्ञापन अनिल कुमार लाल और मंच संचालन डॉ. प्रमोद कुंवर ने किया।

खबरें और भी हैं...