पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Patna News Theater From All Over The World Including Corona To Patna The Color Workers Said Good For Us Alone

कोरोना से पटना सहित पूरी दुनिया का रंगमंच सूना, रंगकर्मी बोले- एकांत हमारे लिए अच्छा

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रंगमंच विडंबना की कला है। कोरोना के कारण यह विडंबना शुक्रवार काे पूरा विश्व देखेगा कि यह दिवस बिना किसी रंगमंचीय प्रस्तुति के गुजर गया

इस अंधेरे में भी कल्पनाओं का दमकता चेहरा आकार ले रहा है। जीवन एकांत में कुछ सकारात्मक रच रहा है, उम्मीद है स्याह अंधेरे का बादल छंटेगा और खुशियों की बारिश होगी। ये जो चुप्पी सी पसरी है चारों ओर, उस धरातल पर फिर खिलखिलाहट गूंजेगी। शुक्रवार को विश्व रंगमंच दिवस है और भारत सहित पूरी दुनिया का रंगमंच इस बार मौन चेहरा लिए यह संदेश दे रहा है कि अभी संयम की जरूरत है। रंगमंच सहित दुनिया के तमाम रचनाकर्म अाैर सृजनशीलता पर काेराेना के हमले के बीच भी रंगकर्मी एकांत में कुछ साकार सा रच रहे हैं, संकल्प ले रहे हैं कि धड़कनाें की ये डाेर थामे रहेंगे, काेराेना काे हराएंगे।

देश के जाने-माने थियेटर आर्टिस्ट अाैर भाेपाल नाट‌्य विद्यालय के निदेशक रह चुके संजय उपाध्याय ने कहा कि ये सचमुच चुनाैतियाें का दाैर है। इस बार भारत ही नहीं दुनिया के किसी रंगमंच पर काेई गतिविधि नहीं हाेगी लेकिन जीवन धारा, कल्पनाएं कभी थमती नहीं है, रचनाशीलता अाकार लेती ही रहती है। उन्होंने बताया कि अाठ अप्रैल काे प्रवीण स्मृति सम्मान राैशन काे दिया जाना था अाैर नाटक भी हाेना था, दाेनाें स्थगित हा़े गया। डाॅ. विनय का यक्षिणी के ऊपर एक कविता संग्रह अाया है, उसी पर आधारित नाटक हाेना था। हम साेशल मीडिया पर संवाद करेंगे अाैर एक-दूसरे काे बधाई देंगे। उन्हाेंने बताया कि पिछले साल इतनी बड़ी वैश्विक चुनाैती नहीं थी, विश्व रंगमंच दिवस पर मैं अाेडिशा में था अाैर हमने बिदेसिया का मंचन किया था। इस बार घर में ही हूं और सभी को घर में ही रहने की सलाह भी देता हूं। घर में ही रहें कोई अच्छा सा नाटक पढ़ें, उसपर लिखें और सोशल साइट‌्स पर उसे साझा करें। बातचीत के क्रम में बताते हैं कि उनका बेटा स्वरम उपाध्याय चंडीगढ़ से ड्रामा में एमए कर रहा है, लॉकडाउन की वजह से वहां फंस गया। संजय उपाध्याय बताते हैं कि वो स्वरम से भी इस समय खूब पढ़ने को कह रहे हैं और खुद भी मनीषा कुलश्रेष्ठ का उपन्यास मल्लिका पढ़ रहे हैं जो भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की प्रेमिका के जीवन पर आधारित है।

ओरहान पामुक को पढ़ रहा हूं

अभी मैं अाेरहान पामुक की किताब, द ब्लैक बुक, द स्नाे अाैर मेरे कत्ल की दास्तान पढ़ रहा हूं। जावेद अागे कहते हैं कि मुंबई में फिल्माें अाैर टीवी मंे काम कर रहीं उनकी बेटी संयाेग से लाॅकडाउन के पहले लाैट अाई हैं अाैर उनसे कविता पाठ करवा कर उसकी रिकाॅर्डिंग कर रही हैं। जावेद अभी पंकज राग अाैर नागार्जुन की कविताअाें का पाठ कर रहे हैं जिसे उनकी बेटी तनया सुन अाैर रिकाॅर्ड कर रहीं हैं। अंत में उन्हाेंने संदेश दिया कि सब लाेग एकांत में रहें, साेशल डिस्टेंसिंग अभी जरूरी है।

world theatre day

सोशल मीडिया पर मनाएंगे विश्व रंगमंच, नाटक पर करेंगे चर्चा

जावेद अख्तर

संजय उपाध्याय

इस संबंध में जाने-माने रंगकर्मी जावेद अख्तर ने बताया कि इस बार पूरी दुनिया में शायद पहली बार होगा रंगमंच पर कोई शिरकत नहीं होगी। रंगमंच ताे समुदाय की कला है। रंगमंच अात्मा है ताे दर्शक उसकी धड़कन। जावेद बताते हैं कि रंगमंच विडंबना की कला है। यह विडंबना शुक्रवार काे पूरा विश्व देखेगा कि यह दिवस बिना किसी रंगमंचीय प्रस्तुति के गुजर गया। याद हम सब करेंगे इस दिवस काे अपने-अपने एकांत में बैठकर। यह एकांत यह संकल्प है कि हम फिर से सार्वजनिक हाेंगे। थियेटर एकांत काे सार्वजनिक करने की कला है। यह एकांत अाने वाले दिनाें में सार्वजनिक जीवन का एक नया चेहरा प्रस्तुत करेगा। उन्हाेंने कहा कि हम शायद अपनी प्रकृति, अपने मूल से कट गए थे, इस एकांत में शायद अपने मूल काे पकड़ लें। इस एकांत में अाप क्या कर रहे हैं, पूछने पर जावेद बताते हैं, मैं इन दिनाें खूब पढ़ रहा हूं।

कविताओं का पाठ और उसके नाट‌्य रूपांतरण की तैयारी

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें