बिहार / मिशन मोड में चलेगा जल-जीवन-हरियाली अभियान, दो से हर पंचायत में शुरू होगा काम



Water-life-greening campaign will run in mission mode,
X
Water-life-greening campaign will run in mission mode,

  • मुख्यमंत्री ने कहा- राज्य में हरित आरवण क्षेत्र 17 प्रतिशत करने के लिए हो रहा काम

Dainik Bhaskar

Aug 19, 2019, 05:45 AM IST

पटना . जल-जीवन-हरियाली अभियान मिशन मोड में चलेगा। 2 अक्टूबर तक हर पंचायत में इससे संबंधित कोई न कोई काम शुरू किया जाएगा। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को राज्य में बाढ़-सुखाड़ की स्थिति की समीक्षा के दाैरान कहीं। इस दाैरान उन्हाेंने सभी जिलाधिकारियों, प्रमंडलीय अायुक्त व पुलिस अधीक्षकाें से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग से बात भी की। 


पर्यावरण संरक्षण के लिए पेड़ लगाना जरूरी : सीएम ने कहा कि राज्य में वर्षापात में कमी हो रही है, भूजल स्तर नीचे जा रहा है। पर्यावरण संरक्षण का बचाव जरूरी है, इसके लिए पेड़ लगाना है, साथ ही अक्षय ऊर्जा को प्रोत्साहित करना है। राज्य का हरित आवरण क्षेत्र 17 प्रतिशत करने के लक्ष्य के लिए काम हो रहा है। तालाब, कुओं का जीर्णोद्धार कराना है। किसी भी निर्माण कार्य में वृक्ष को काटा नहीं जाएगा, बल्कि उसे उखाड़कर दूसरी जगह लगाया जाएगा। लोगों को पाैधे लगाने और जल के दुरुपयोग से रोकने के संबंध में जागरूक करना होगा। इसी क्रम में शनिवार को लघु जल संसाधन विभाग ने सभी जिलों व प्रखंडों में जन जागृति के लिए नौ वाहनों को रवाना किया गया है।

 
उन्होंने कहा कि क्राॅप साइकिल के बारे में कृषि विभाग को जल्द से जल्द योजना बनानी चाहिए। इससे जल संरक्षण होने के साथ-साथ अन्य फसलों का उत्पादन भी बढ़ेगा। यह जल-जीवन-हरियाली का ही एक भाग है। क्राॅप साइकिल के संबंध में लोगों को प्रेरित करने की भी आवश्यकता है। बैठक में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी व अन्य मंत्रीगण, मुख्यमंत्री के परामर्शी अंजनी कुमार सिंह, आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष ब्यासजी, मुख्य सचिव दीपक कुमार, डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, अपर सचिव मुख्यमंत्री सचिवालय चंद्रशेखर सिंह, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह उपस्थित थे।

 

अबतक हुई 76.98 प्रतिशत रोपनी  : कृषि विभाग के सचिव एन. श्रवण कुमार ने बताया कि अबतक पूरे राज्य में 76.98 प्रतिशत रोपनी हुई है। उन्होंने आकस्मिक फसल योजना की तैयारी के अलावा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बालू सिल्ट और डीजल अनुदान के आवेदनों की जानकारी दी। जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने तटबंधों की सुरक्षा के संबंध में जिलावार जानकारी दी। उन्होंने प्रमुख नदियों का अधिकतम जलस्राव दक्षिण बिहार में वृहद सिंचाई योजनाओं से सिंचाई की स्थिति, बाढ़ से क्षतिग्रस्त नहरों की स्थिति और खरीफ फसलों के लिए सिंचाई के लक्ष्य के संबंध में बताया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना