• Home
  • Bihar
  • Patna
  • Patna - हमें बदलना होगा महिलाओं को देखने का अपना नजरिया
--Advertisement--

हमें बदलना होगा महिलाओं को देखने का अपना नजरिया

महिलाओं को काफी देर से पढ़ाया-लिखाया गया, इसलिए शब्दों के माध्यम से उन्होंने अभिव्यक्ति देर से की, लेकिन कल्पना के...

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 05:11 AM IST
महिलाओं को काफी देर से पढ़ाया-लिखाया गया, इसलिए शब्दों के माध्यम से उन्होंने अभिव्यक्ति देर से की, लेकिन कल्पना के माध्यम से और अपनी आवाज से बीज बिखेरती रही हैं। जीवन की क्रूरताओं के बीच भी सौंदर्य कैसे गढ़ा जाता है, ये कोई महिलाओं से सीखे।

इस क्रूरता को महिलाओं ने बुलंद आवाज में ‘अ कंट्री विदाउट वूम्ब’ कार्यक्रम में रखा। आयोजन वी स्पीक की ओर से पटना संग्रहालय में रविवार को किया गया। पटना म्यूजियम में वी स्पीक की ओर से आयोजित कार्यक्रम में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मलीवाल, जर्नलिस्ट अमलेन्दु अस्थाना, पद्मश्री उषा किरण खान, अपूर्वा विवेक, सीटू तिवारी और आर. जे. अंजली सिंह ने महिलाओं पर हो रहे सेक्सुअल हरासमेंट पर खुल कर बातें कहीं। पद्मश्री उषा खान ने वेदों के बारे में कई बातें बताईं। जर्नलिस्ट अमलेन्दु अस्थाना ने कहा कि महिलाओं का सम्मान बहुत ही जरूरी है। दो ध्रुव हैं जिससे सृष्टि की रचना होती है। इस ध्रुव का सम्मान नहीं करेंगे तो यह दो भागों में बिखर जाएगा। अंत में अंजली ने कहा कि महिलाओं को सेक्स एजुकेशन देना बहुत जरूरी है। अपूर्वा विवेक ने अनाथ बच्चियों के दर्द को बयां किया। इसके साथ ही स्टूडेंट्स ने वक्ताओं से कई क्वेश्चन किए। कार्यक्रम का संचालन वी स्पीक के आमिर अब्बास ने किया। कार्यक्रम में संस्था के प्रतीक राज, अनोखी और अमृतांशु मौजूद रहे।