• Hindi News
  • Bihar
  • Patna
  • Masaurhi News when the son unveiled the statue of sanjay the martyr of pulwama the tears of his wife pierced

पुलवामा के शहीद संजय की प्रतिमा का अनावरण बेटे ने किया तो पत्नी की आंखों में छलक आए आंसू

Patna News - शहीद संजय की शहादत को देश नहीं भूला सकता। वे मसौढ़ी ही नहीं पूरे देश के सपूत थे। ऐसे लाल को जन्म देकर यहां की...

Feb 15, 2020, 08:41 AM IST
Masaurhi News - when the son unveiled the statue of sanjay the martyr of pulwama the tears of his wife pierced

शहीद संजय की शहादत को देश नहीं भूला सकता। वे मसौढ़ी ही नहीं पूरे देश के सपूत थे। ऐसे लाल को जन्म देकर यहां की मिट्टी भी धन्य हो गई। उक्त बातें शहीद संजय कुमार सिन्हा की पहली बरसी पर शुक्रवार को उनके घर की ड्योढ़ी पर आयोजित श्रद्धाजंलि सभा के मौके पर एसडीओ संजय कुमार ने कही। एसडीओ ने कहा- शहीद के परिजनों व मोहल्लेवासियों की कुछ मांगें जैसे मोहल्ले में विद्यालय की स्थापना, सड़क निर्माण, शहीद के नाम पर मसौढ़ी कोर्ट हॉल्ट का नामकरण अभी पूरी नहीं हो सकी हैं। लेकिन, वे प्रक्रिया में हैं और शीघ्र पूरी हो जाएंगी। एसडीपीओ सोनू कुमार राय ने शहीद के स्वजनों द्वारा उनकी प्रतिमा की स्थापना के लिए उनके प्रति आभार जताया। शहीद के पिता महेंद्र प्रसाद सिंह द्वारा सुरक्षा की मांग पर उन्होंने ऐसा करने का आश्वासन दिया। सभा को प्रखंड प्रमुख रमाकांत रंजन किशोर, मनोज कुमार, पंकज कुमार सिंह, रामप्रवेश शर्मा, गौतम कुमार, गोल्डी, पालटन सिंह, संजय केसरी, महेंद्र सिंह अशोक समेत अन्य लोगों ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ एमके मंगल ने की। संचालन चंद्रकेत सिंह चंदेल ने किया। इसके पूर्व उन्होंने शहीद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की।

सिटी रिपोर्टर | मसौढ़ी

पुलवामा में सीआरपीएफ के 44 जवानों की शहादत काे शुक्रवार को एक साल पूरे हो गए। इन जवानों में से एक तारेगना मठ के संजय कुमार सिन्हा भी थे। उनकी शहादत दिवस पर आज उनके घर में शांतिपूजा हो रही थी और दूसरी ओर उनके घर के बाहर उनकी प्रतिमा के अनावरण की तैयारी चल रही थी। इसे लेकर घर में उनके रिश्तेदार भी आए हुए थे। रिश्तेदारों से घर भरा होने के बावजूद शहीद की प|ी बेबी देवी गुमसुम बैठी थी। बीच-बीच में उनकी आंखों से आंसू बरस रहे थे। पूजा होने के बाद पुरोहित ने घर के बाहर स्थापित शहीद की प्रतिमा का अनावरण उनके पुत्र ओमप्रकाश कुमार उर्फ सोनू से कराया। पिता को माल्यापर्ण करते वक्त सोनू की आंखें भी छलक आईं।

...और टूट गया प|ी के सब्र का बांध

पुत्र ओमप्रकाश ने जैसे ही अपने पिता की प्रतिमा के ढंके चेहरे से कपड़ा हटाया, थोडी दूर पर खड़ी बेबी देवी के सब्र का बांघ छलक पडा। वे अपने पति के चेहरे को देख सिसक पड़ी और फूट-फूट कर रोने लगी। मानों सालभर के बाद फिर से उनका पति घर लौट आया हो।

स्कूल, सड़क व रेलवे स्टेशन का नाम जल्द होगा शहीद के नाम पर

शहीद संजय सिन्हा के घर के पास स्थापित मूर्ति व कार्यक्रम में मौजूद उनकी प|ी बेबी देवी व अन्य प्रशासनिक अधिकारी।

X
Masaurhi News - when the son unveiled the statue of sanjay the martyr of pulwama the tears of his wife pierced
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना