• ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
अंतिम अपडेट : 25-06-2018 07:59PM
जहां कभी रोज बनती थी 500 लीटर शराब, अब महिलाएं बेच रहीं 300 लीटर दूध

जहां कभी रोज बनती थी 500 लीटर शराब, अब महिलाएं बेच रहीं 300 लीटर दूध

पूर्णिया.   केनगर प्रखंड का आदिवासी बाहुल्य अलीनगर गांव शराबबंदी से पहले देसी शराब बनाने के लिए जाना जाता था। सौ घर की आबादी वाले इस गांव के हर घर में देसी शराब बनती थी और उसे बेचा जाता था। शराबबंदी के बाद पारंपरिक रोजगार छिन जाने के बाद इन लोगों...

कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
Allow पर क्लिक करें।