पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

60 साल से ऊपर के डॉक्टर बंद रखें क्लीनिक

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस से बचाव के लिए हर तबके के लोगों में जागरुकता देखी जा रही है। कोरोना से लड़ाई के लिए चिकित्सक भी आगे आए हैं। ये खुद तो जागरूक हैं ही, लोगों को भी जागरूक कर रहे हैं। ऐसे ही शहर के दो डॉक्टर इस अभियान में बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं।

प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. डी. राम कोरोना से बचाव के लिए पूरी तरह आइसोलेटेड होने की वकालत कर रहे हैं। वे 60 साल से अधिक उम्र के ऐसे चिकित्सक जो डायबीटिक हैं और जिनकी इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर है और वे दवा ले रहे हैं, उनसे क्लीनिक बंद करने की अपील की है। डॉ. राम ने कहा कि मैं खुद डायबीटिक हूं और दवा ले रहा हूं। इसलिए अब आज से कोई पेशेंट नहीं देखूंगा। मेरी उम्र भी 60 साल से अधिक हो गई है। उन्होंने कोरोना वायरस के थर्ड स्टेज को गंभीरता से लेने की बात कही।

उन्होंने जनप्रतिनिधियों से शिलान्यास, उदघाटन में भीड़ इकट्‌ठा नहीं करने की अपील की। उन्होंने लोगों से झुंड में जागरूकता अभियान चलाने से परहेज करने की बात कही। उधर, शिक्षाविद् व चिकित्सक डॉ. संजीव कुमार कोरोना से बचने के लिए जन-जागरण अभियान चलाने के साथ अपने निजी क्लीनिक सहयोग नर्सिंग होम में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अलग कोरोना संदिग्ध कक्ष बनाए हैं। प्राइवेट क्लीनिकों में सभवत: यह पहला आइसोलेटेड वार्ड होगा। डॉ. संजीव ने बताया कि उन्होंने अपने क्लीनिक के एंट्री प्वाइंट पर स्वाथ्यकर्मियों को तैनात किया है। यहां आने वाले सभी लोगों को पहले सेनेटाइज्ड किया जाता है। हमारे क्लीनिक में कोरोना के संदिग्ध मरीज के लिए अलग कक्ष बनाया गया है। यहां के कुछ स्टाफ को इसके लिए अलग से ट्रेंड कर उन्हें वेलएक्यूप्ड किया गया है।

देश के ऐसे हालात में डॉक्टरों का दायित्व बहुत बढ़ा : डा. संजीव ने बताया कि अभी हमारे देश के जो हालात हैं। ऐसे में डॉक्टरों का दायित्व बहुत बढ़ जाता है। अभी ही नर सेवा,नारायण सेवा की उक्ति को चरितार्थ करने का समय है। डाॅ.संजीव के साथ उनकी धर्मप|ी डाॅ.अनुराधा सिन्हा भी इस अभियान में उनका साथ दे रही हैं।

जनता कर्फ्यू का सपोर्ट करें डॉक्टर व लोग : डाॅ.केजरीवाल

पूर्णिया| आज जनता कर्फ्यू को सक्सेस करने की आईएमए ने अपील की है। आईएमए के अध्यक्ष डा.अमरनाथ केजरीवाल ने कहा कि पीएम मोदी के जनता कर्फ्यू की अपील बिल्कुल साइंटिफिक है। यह देश, समाज और हमारे हित में है। इसका डॉक्टर्स व आमलोगों को जरूर सपोर्ट करना चाहिए। डॉ. केजरीवाल ने इसका वैज्ञानिक कारण बताते हुए कहा कि अगर कोई वायरस आपके आसपास आ जाता है और अगर 12 घंटे तक आप उसके सम्पर्क में नहीं आते हैं तो उसकी क्षमता स्वत: घट जाती है। इसलिए पीएम मोदी ने वैज्ञानिक सोच के तहत देशवासियों से यह अपील की है। इसलिए इसमें हर तबके के लोगों को सहयोग करना चाहिए।

डॉ. देवी राम।

डॉ.संजीव कुमार।
खबरें और भी हैं...