पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Purnia News Dear Brother Take A Photo Of National Spokesperson And District Spokesperson Together

अरे भाई ! राष्ट्रीय प्रवक्ता और जिला प्रवक्ता का एक साथ फोटो तो ले लो...

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सुषमा स्वराज के साथ मुझे चंद घंटे गुजारने का मौका मिला था। उन चंद घंटों के अंदर ही उनकी सादगी और कार्यकर्ताओं के प्रति स्नेह को मैं कभी भूल नहीं पाऊंगा। उनके ये शब्द..अरे भाई, राष्ट्रीय प्रवक्ता और जिला प्रवक्ता का एक साथ फोटो तो ले लो...आज भी मेरे जेहन में ताजा है...।

पूर्णिया में जनसंघ की स्थापना काल से जुड़े रहने के कारण पूर्णिया में आए सभी बड़े नेताओं का मुझे सानिध्य मिला है। दिन और महीना तो याद नहीं लेकिन 1998 में लालकृष्ण आडवाणी के द्वारा निकाले गए स्वर्ण जयंती रथयात्रा के सिलसिले में सुषमा स्वराज भी आडवाणी जी के साथ पूर्णिया आईं थीं। उस समय वह पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता थीं और मैं पूर्णिया में जिला प्रवक्ता की हैसियत से पार्टी की सेवा कर रहा था। यह यात्रा रायगंज से होकर पूर्णिया आ रही थी। हमलोग उनकी अगुवानी में पूर्णिया जिले का बार्डर दालकोला गए हुए थे। पूर्णिया के ऐतिहासिक रंगभूमि मैदान में सभा का आयोजन किया गया। वीर नारायण गुप्ता पार्टी के जिला कार्यकारी अध्यक्ष थे। संजीव नंदन सिंह कार्यक्रम के संयोजक बनाए गए। उस जनसभा में अच्छी भीड़ उमड़ी थी।

सभा में जाने से पहले पूर्णिया सर्किट हाउस में सुषमा जी के साथ कुछ समय बिताने का मौक़ा मिला जो काफी यादगार रहा। भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता व पार्टी की कद्दावर नेता होने के बावजूद उनमें अहं नाम की कोई चीज नहीं थी। भाजपा कार्यकर्ताओं से बड़ी सहजता के साथ आत्मीयता से मिलना उनकी आदतों में शुमार दिखा। स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति उनके मन में काफी सम्मान था।

उन्होंने न केवल पूर्णिया के स्वतंत्रता सेनानियों की चर्चा की बल्कि उसकी सूची भी तैयार करवा कर अपने साथ ले गईं। वह पार्टी के जनाधार को बढ़ाने के लिए महिला कार्यकर्ताओं को काफी प्रोत्साहित करती थीं। पार्टी की महिला प्रकोष्ठ में उस समय की नेता तारा साह, सुनीता सिंह, वीणा सूद, झुन्नु कुमारी के साथ सुषमा जी काफी आत्मीयता के साथ बातचीत करते हुए उन्हें पार्टी में अधिक से अधिक महिलाओं को जोड़ने की बात कही। इस दौरान करीब 20 मिनट तक पार्टी संगठन को लेकर उन्होंने कार्यकर्ताओं की एक-एक जिज्ञासा को पूरी की और संगठन के गुर की बारीकियों को भी समझाया। मैं जिला प्रवक्ता होने के नाते लगातार उनके साथ ही रहा। जैसे वह जाने लगी तभी उनकी नजर एक फोटोग्राफर पर पड़ी, उन्होंने उसे इशारे से बुलाया और बड़े प्यार से कहा अरे भाई...राष्ट्रीय प्रवक्ता और जिला प्रवक्ता का एक साथ फोटो तो ले लो। मैं उस पल को आजीवन भूल नहीं पाऊंगा। वह तस्वीर आज भी मेरे पास सुरक्षित है। अब सुषमा जी हमारे बीच नहीं रहीं, लेकिन, उनकी आत्मीयता का भाव हमेशा जिन्दा रहेगा।

भाजपा के जिला प्रवक्ता व वरीय अधिवक्ता दिलीप कुमार दीपक ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ बिताए पलों को किया साझा, कहा-उनकी यादें आज भी मेरे जेहन में ताजा

पूर्णिया सर्किट हाउस में महिला नेत्री और दिलीप कुमार दीपक के साथ सुषमा स्वराज।

कार्यकर्ताओं द्वारा भेंट की गई साड़ी पहनकर खगड़िया में दिया था भाषण

जिस समय सुषमा स्वराज ने पूर्णिया में सभा को संबोधित किया था, उस समय उन्होंने सलवार सूट पहना हुआ था। कार्यक्रम के बाद भाजपा नेता विनोदानंद सिंह ने उनसे अनुरोध करते हुआ कहा कि यह बिहार के मिथिलांचल का इलाका है और यहां के लोग सलवार सूट की जगह साड़ी को ज्यादा पसंद करते हैं। इस पर सुषमा स्वराज ने बड़ी विनम्रता से कहा कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं थी और मैं साड़ी लेकर भी नहीं आई हूं। इसके के बाद पूर्णिया के कार्यकर्ताओं ने उन्हें एक साड़ी भेंट की। सुषमा स्वराज ने उसी साड़ी को पहनकर खगड़िया में आयोजित सभा को संबोधित किया था।

खबरें और भी हैं...