• Hindi News
  • Bihar
  • Purnia
  • Purnia News if you want to add a broken relationship then you have to look out from the circles when the wounds of the heart do not heal then i am entertained

टूटे रिश्ते जोड़ना है यदि तो निकल कर देखना होगा घेरों से, दिल का जख्म जब भरता नहीं तो जी को बहलाता हूं...

Purnia News - कला भवन के मुक्ताकाश मंच पर जिला फिरोग ए उर्दू सेमिनार का आयोजन उर्दू भाषी कोषांक पूर्णिया के द्वारा किया गया।...

Nov 21, 2019, 09:02 AM IST
कला भवन के मुक्ताकाश मंच पर जिला फिरोग ए उर्दू सेमिनार का आयोजन उर्दू भाषी कोषांक पूर्णिया के द्वारा किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत जिला लोक निवारण पदाधिकारी मो जावेद अहसन जिला प्रभारी पदाधिकारी उर्दू कोषांग पूर्णिया, नीरज कुमार दास, प्रो अहमद हुसैन दानिश ने सामूहिक रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

कार्यक्रम में उपस्थित कवियों के द्वारा उर्दू भाषा के फिरोग पर रौशनी डाली गई। वहीं मुशायरे का भी आयोजन रखा गया। इसमें शायर सदमा जवी, हारुल रशीद, कफील, प्रो कसिम अख्तर, रहमान सद्दाब ने अपने शायर से लोगों का मन मोह लिया। शायर सदमा जवी ने कहा टूटे रिश्ते जोड़ना है यदि तो निकल कर देखना होगा घेरों से, दिल का जख्म जब भरता नहीं तो जी को बहलाता हूं...जैसे कई शायरी से लोगों का मन मोह लिया। कार्यक्रम में बच्चों ने अपने वक्तव्य रखे। उसमें 5 बच्चों को पुरस्कार से भी नवाजा गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में मो जाबेद आलम, नैय्यर आलम, शमशेर आलम, मुसर्रत जहां, नव्यता नाज, साबिर अली, शमीर अख्तर, परवेज नसी का योगदान सराहनीय रहा।

कलाभवन में फरोगा ए उर्दू सेमिनार में भाग लेते अधिकारी एव अन्य

कलाभवन में फरोगा ए उर्दू सेमिनार में भाग लेते लोग

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना