नौसिखिया चालकों के पास लाइसेंस नहीं, विभाग मौन

Purnia News - शहर की सड़कों पर इन दिनों नौसिखिया चालकों द्वारा वाहन दौड़ाया जा रहा है। ऑटो, पिकअप, ट्रैक्टर, बाइक और कई अन्य छोटी...

Nov 11, 2019, 09:51 AM IST
शहर की सड़कों पर इन दिनों नौसिखिया चालकों द्वारा वाहन दौड़ाया जा रहा है। ऑटो, पिकअप, ट्रैक्टर, बाइक और कई अन्य छोटी गाड़ियों को चलाने वाले नौसिखिये चालकों के पास ड्राइविंग लाइसेंस तक नहीं है। पुलिस और सड़क सुरक्षा से जुड़े अधिकारी सब देखकर भी कुछ कर पाने की स्थिति में नहीं हैं। गंतव्य तक पहुंचने की जल्दबाजी में ये चालक रेस लगाते हैं और हादसे के शिकार होते हैं। सिग्नल व्यवस्था की कमतरी ऐसे चालकों को मनमानी की छूट देती है। पहले सड़कों के खास्ताहाल दुर्घटनाओं के चलते बनते थे लेकिन अब चिकनी सड़कों पर दुर्घटनाओं के तोहमत लग रहे हैं। सड़क हादसों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के बावजूद भी लोग सर्तक नहीं हो पा रहे हैं। वहीं अतिक्रमण से सड़कें संकरी होकर आधी बची हैं। कहीं भी सड़क के किनारे फ्लैंक तक नहीं बचा है। डीटीओ पूर्णिया विकास कुमार ने कहा कि दो व तीन पहिया वाहन चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस की लगातार जांच की जा रही है। दो दिन पूर्व ही पूर्णिया पूर्व में वाहन चालकों से 50 हजार रूपए का जुर्माना वसूला गया है। इसके अलावा भी आरएन साह चौक, लाइन बाजार, कटिहार मोड़, खुश्कीबाग, गुलाबबाग, राममोहनी चौक, बनभाग समेत कई अन्य स्थानों पर सघन वाहन जांच किया जाता है।

हेलमेट नहीं लगाना बन गया फैशन : बिना हेलमेट पहने सड़कों पर फर्राटा भर रहे युवा अपने अलावा दूसरों की भी जान जोखिम में डाल रहे हैं। दुर्घटनाओं में घायल होने वाले कम उम्र के युवा व टीनएजर्स की संख्या अधिक है। ट्रैफिक प्रभारी राजेश कुमार कहते हैं कि अभिभावक इसमें सबसे ज्यादा जिम्मेवार हैं। जागरूकता के अभाव में टीनएजर बाइक सवार हेलमेट व जूते का प्रयोग नहीं करते हैं। कहा कि प्रशासन नियमित अंतराल पर वाहन चेकिंग कर लोगों में जागरुकता पैदा कराया जा रहा है। अभिभावकों से अपील की है कि वे अपने बच्चों को बिना परिपक्व हुए गाड़ी चलाने को न दें, सतर्कता ही सबसे बड़ा बचाव है। वहीं सदर अस्पताल के सूत्रों की माने तो प्रतिदिन कम से कम 20 मामले सड़क हादसे में घायल लोगों के आते हैं।

लगातार चल रहा है अभियान, हो रही कार्रवाई


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना