• Hindi News
  • Bihar
  • Saharsa
  • Saharsa News not a single body could reach delhi on the third day of the fire the possibility of reaching today 1 died in shock

दिल्ली अग्निकांड के तीसरे दिन भी नहीं पहुंच सका एक भी शव, आज पहंुचने की संभावना, सदमे में 1 ने तोड़ा दम

Saharsa News - रविवार को अहले सुबह दिल्ली के अनाज मंडी भवन में लगी आग में अपनी जान गवां चुके सहरसा के 8 मजदूरों में एक का भी शव घटना...

Dec 11, 2019, 09:21 AM IST
Saharsa News - not a single body could reach delhi on the third day of the fire the possibility of reaching today 1 died in shock
रविवार को अहले सुबह दिल्ली के अनाज मंडी भवन में लगी आग में अपनी जान गवां चुके सहरसा के 8 मजदूरों में एक का भी शव घटना के तीसरे दिन भी गांव नहीं पहुंच पाया।

सहरसा से दिल्ली गए तीन एम्बुलेंस से शव आने का इंतजार मंगलवार की देर शाम तक घर वाले करते रहे। अपने लाडले की मौत की खबर से आहत परिजनों की आंखें शव के इंतजार में सूख चुकी है। मरने वाले 8 मजदूरों में 7 एक ही गांव नरियार के विभिन्न टोलों का है जबकि एक मृत मजदूर नवहट्‌टा का रहने वाला था।

गांव के लोग पीड़ित परिजन के साथ शोक में रोजमर्रे के काम से अलग सांत्वना देने में लगे रहे। दिल्ली में घटी हृदयविदारक घटना में मृत दो युवकों मो संजार और मो राशीद की मौत की खबर के बाद मो संजार की खाला व मो राशिद की फुआ अजरुन ने सदमे से दम तोड़ दी।

शव के इंतजार में छलके आंसू

मृत संजार की नानी की नाती के शव आने के इंतजार में सूख चुके हैं आंसू ।

दिल्ली के अनाजमंडी में लगी आग में 8 मजदूरों की ली जान

अजरुन खातून ने तीन दिन से कुछ नहीं खाया, हाे गई माैत

दिल्ली अग्निकांड में मृतक दो युवकों मो संजार और मो राशीद की मौत की खबर से जहां उनके परिजनों सहित पूरा गांव गमनीम है,वहीं मो संजार की खाला और मो राशिद की फुआ अजरुन खातून की मंगलवार की सुबह सदमे से मौत हो गई। मृतका अजरुन खातून के दामाद मो नजीम ने बताया कि वह मजदूरी करता है,जबकि करीब पांच वर्ष पूर्व ही अजरुन खातून के पति इस्लाम की मौत हो गई थी। उनकी एकमात्र ओलाद बेटी गुड्डी खातून थी। लेकिन पड़ोस में रह रहे उसके भतीजे मृतक राशिद और बहन के बेटे मो संजार उसे हर समय मदद करते रहते थे,जिससे वह उनदोनों से जुडी हुई थी। रविवार को एक साथ दोनों भाई की मौत की खबर मिलने के बाद वह लगातार रोती रहती थी। तीन दिनों से उसने कुछ भी नहीं खाया था। मंगलवार की सुबह भी वह रो रही थी,तो उसने अपनी सास अजरुन खातून को रोने से मना करते हुए तबीयत ख़राब होने हवाला देकर वह मृतक संजार और राशिद के घर की ओर चला तभी एकाएक अजरुन खातून की मौत हो गई है।

7 युवकों की मौत से आहत हैं नरियार गांव के निवासी

मो. संजार की मौत के बाद सदमें में जान गंवा चुकी अजरून खातून के जनाजे की नवाज में शामिल ग्रामीण ।

हर अाने वाले के चेहरे पर दिख रही उम्मीदें | पीड़ितों के घरों में आनेवाले हरेक आदमी को देखकर उनकी उम्मीदें बढ़ जा रही हैं,कि शायद उनके प्यारों के आने की सूचना आई है। जमीं में दफन होने से पहले एकबार मुंह देख लें। लेकिन कोई सूचना नहीं मिलने पर वह निराश होकर हताशा की गर्त में चले जाते हैं। ग्रामीण हर आनेजाने वालों से दिल्ली का समाचार जानने खासकर शव कब तक गांव आएगा इसकी जानकारी लेने के लिए व्याकुल दिख रहे हैं । दुर्घटना के तीन दिन बीतने के बावजूद भी गांव में अधिकांश घरों में चूल्हा नहीं जला है। ग्रामीणों ने बताया कि किसी के घर में तीन दिन से चूल्हा नहीं जला है।

मृत दो भाइयों का शव आने से पहले 1 रिश्तेदार की गई जान

सभी मृतकों का शव अाज शाम तक पहुंच जाएगा

नवहट्टा निवासी मो अफ़साद का शव मंगलवार की देर रात गांव पहुंच जाएगा,जबकि नरियार निवासी सात मृतकों का शव बुधवार की शाम तक पहुंचेगा। -शंभुनाथ झा, सदर एसडीओ

Saharsa News - not a single body could reach delhi on the third day of the fire the possibility of reaching today 1 died in shock
X
Saharsa News - not a single body could reach delhi on the third day of the fire the possibility of reaching today 1 died in shock
Saharsa News - not a single body could reach delhi on the third day of the fire the possibility of reaching today 1 died in shock
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना