सोनबर्षा के विद्यालयों में संचालित एमडीएम व्यवस्था की खुली पोल

Saharsa News - सरकारी स्कूलों में बच्चों का एनरोलमेंट बढ़ाने, उन्हें नियमित तौर पर स्कूल आने व स्कूल ना छोड़ने के लिए प्रेरित...

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 05:05 AM IST
Saharsa News - open pole of mdm system operated in sonbarsa schools
सरकारी स्कूलों में बच्चों का एनरोलमेंट बढ़ाने, उन्हें नियमित तौर पर स्कूल आने व स्कूल ना छोड़ने के लिए प्रेरित करने और बच्चों में होने वाले कुपोषण को दूर करने के लिए एमडीएम योजना चालू की गई।

साथ ही बच्चों को समुचित पोषक तत्व उपलब्ध हो, इसे लेकर न्यूट्रीशियन के द्वारा मीनू तैयार किया गया। जिसके बाद उक्त भोजन तालिका को हरेक विद्यालयों में अंकित करवाते हुए एमडीएम संचालित किये जाने की जिम्मेवारी तय की गई। लेकिन अधिकांश विद्यालय प्रबंधन ने बच्चों के इस निवाला पर ही क्रूर दृष्टि डाले हुए हैं। शुक्रवार को सोनबर्षा प्रखंड स्थित संचालित कई विद्यालयों ऐसा ही नजारा देखा गया।

मालूम हो कि विभागीय निर्देश के आलोक में जिला साधन सेवी संत प्रकाश भारती ने उक्त प्रखंड के आठ विद्यालयों में संचालित एमडीएम योजना का जायजा लिया। जायजा के दौरान विद्यालयों की स्थिति को देख भौचक्क रह गये।


कई विद्यालयों में ऐसा ही नजारा देखा गया, स्थिति देख भौचक हुए अधिकारी

मध्य विद्यालय बसनही बच्चों को परोसा गया आलू चना की सब्जी व चावल व मध्य विद्यालय छर्रापट्टी में उपस्थित बच्चे


जिला साधनसेवी ने एक बजे मवि बलेठा पूर्वी का जायजा लिया। वहां तब तक बच्चों की हाजिरी भी नहीं बनी थी। नामांकित 292 बच्चों में 113 ही माैजूद थे। रसोईघर में 100 अंडे रखे थे। आलू-चना तथा चावल परोसा गया। रोजाना आैसतन 150 छात्रों की हाजिरी बनती है।

प्राथमिक विद्यालय अगरैल मेंे 225 बच्चों का है नामांकन मिले मात्र 46

प्राथमिक विद्यालय अगरैल में 225 बच्चों का नामांकन है। जहां निरीक्षण के दौरान मात्र 46 बच्चे ही मौजूद थे। शुक्रवार को बच्चों को एक -एक अंडा खिलाया जाना था। लेकिन एमडीएम संचालक द्वारा बच्चों को ना तो अंडा योजना का लाभ दिया गया और ना ही एमडीएम के तहत शुक्रवार को बच्चों के थाली उपलब्ध होने वाले पुलाव, छोला तथा सलाद ही परोसा गया। मालूम हो कि उक्त विद्यालय में वरीय शिक्षक के रहते हुए बीईओ द्वारा कनीय शिक्षक को वित्तीय प्रभार दिया गया है।


उन्होंने बताया कि अपराह्न 1:10 बजे वे उमवि छर्रापट्‌टी पहुंचे। स्कूल के प्रधान ने कहा कि स्कूल में 359 बच्चे नामांकित हैं। लेकिन 11 बच्चे ही मौजूद थे। चावल व राशि मिलने के बावजूद एमडीएम बंद था। 11 से 15 मार्च तक की बच्चों की उपस्थिति दर्ज नहीं थी।


अपराह्न दो बजे प्रावि मोतीबाड़ी पहुंचे तो वहां ताला लटका पाया। रसोईघर की दीवार पर भोजन तालिका भी अंकित नहीं थी। रसोइए ने बताया कि स्कूल में 232 बच्चे नामांकित हैं। हेडमास्टर ने एक बजे ही बच्चों को छुट्टी दे दी और सभी शिक्षक घर चले गए।


अपराह्न 2.05 बजे उत्क्रमित मध्य विद्यालय बसनही संथाली बंद पड़ा था। वहीं मध्य विद्यालय बसनही के छात्रों को अंडा योजना का लाभ नहीं दिया गया। शुक्रवार को एमडीएम संचालक द्वारा बच्चों की थाली में आलू-चना तथा चावल परोसा गया।

Saharsa News - open pole of mdm system operated in sonbarsa schools
X
Saharsa News - open pole of mdm system operated in sonbarsa schools
Saharsa News - open pole of mdm system operated in sonbarsa schools
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना