गांव के आंगनबाड़ी केंन्द्रों का किराया है दो सौ रुपए

Saharsa News - केन्द्र सरकार की अाेर से संचालित कई आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन किराये के मकान में किया जा रहा है। मकान मालिक को...

Feb 15, 2020, 09:45 AM IST

केन्द्र सरकार की अाेर से संचालित कई आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन किराये के मकान में किया जा रहा है। मकान मालिक को वर्षो से उनके मकान का किराया नहीं मिलने से असंतोष है। इस मंहगाई के दौर में मात्र 200 रुपए मासिक के मामूली राशि पर किराये पर कोई भी मकान मालिक कमरा या दलान देने को तैयार नहीं होते।

मकान मालिक किराया बढ़ा कर देने के लिए कहते है। सेविकाएं मकान मालिक से अनुरोध विनती कर मकान भाड़ा मिल जाने का का आश्वासन देते हुए केंद्र संचालन कर लेती है। केंद्र के किराया देने के नियम को पूर्व की भांति सरल करते हुए अविलंब कुल किराया देने की व्यव्स्था संबंधित विभाग को करनी चाहिए।

करीब तीन वर्षों से आंगनवाड़ी केंद्रों को इसके मकान का किराया नहीं मिला है। अब कार्यालय कर्मचारी कहते हैं कि मकान मालिक से इकरारनामा स्टाम्प पेपर पर लिखा कर देने पर मकान किराया मिल पायेगा। लेकिन कई मकान मालिक स्टांप पेपर पर इकरारनामा लिख कर देने में असहज महसूस करते हैं। सेविकाओं का कहना है कि आंगनवाड़ी केंद्रों का किराया सेविकाओं के बैंक खाते में दी जाय जैसा कि पहले से दिया जाता रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना