पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Saharsa News Two Criminals Arrested In The Robbery Case From The Finance Company Personnel 7 Alive Cartridges And Three Criminals Arrested With The Contents Of The Loot

फाइनांस कंपनी कर्मी से लूट मामले में दो कट्‌टा, 7 जिंदा कारतूस व लूट की सामग्री के साथ तीन अपराधी गिरफ्तार

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी रिपोर्टर | सुपौल/सहरसा

लौकहा आेपी पुलिस ने लूटकांड मामले में ओपी क्षेत्र के बरुआरी रेलवे स्टेशन के समीप से तीन अपराधियों को एक थ्रीनट, एक पिस्टल व सात जिंदा कारतूस के साथ लूटी गई सामग्रियों के साथ मंगलवार को गिरफ्तार किया है। बुधवार को एसपी मृत्युंजय कुमार चौधरी ने अपने कार्यालय वेश्म में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान जानकारी देते बताया कि सदर थाना क्षेत्र के लौकहा आेपी अंतर्गत अमहा चौक के समीप बीते सोमवार को चोला फाइनेंस कंपनी में कार्यरत सेल्स ऑफिसर शहर के वार्ड-9 निवासी चंदन कुमार यादव से 45 हजार रुपए समेत बाइक व अन्य सामानों की लूट हुई थी।

मामले में कांड संख्या 392/19 दर्ज कर अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही थी। इसी कड़ी में लौकहा ओपी अध्यक्ष अखिलेश कुमार के नेतृत्व में सशस्त्र बल ने तीनों अपराधियों को गिरफ्तार किया। अपराधियों की पहचान लौकहा ओपी क्षेत्र के 19 वर्षीय अभिजीत कुमार सिंह, सहरसा जिला के सिमरी बख्तियारपुर थाना निवासी 21 वर्षीय शिवम कुमार सिंह और सहरसा जिला के ही बिहरा थाना के तुलसीयाही निवासी 19 वर्षीय राकेश कुमार साह के रूप में हुई है।

एसपी ने दी जानकारी, कहा- तीनों का आपराधिक इतिहास, किताब व्यवसायी पर हमले में था शामिल

सुपौल में गिरफ्तार अपराधी व बरामद सामान के साथ एसपी व अन्य।

ओपी प्रभारी होंगे पुरस्कृत

एसपी ने बताया कि तीनों का अापराधिक इतिहास रहा है। जिसमें अभिजीत कुमार सिंह बीते दिनों सदर थाना क्षेत्र अंतर्गत परसरमा चौक पर किताब व्यवसायी पर हुए हमले में भी शामिल था। जिसकी गिरफ्तारी के बाद तीनों को न्यायिक हिरासत में बुधवार को जेल भेज दिया गया है। एसपी ने बताया कि अपराधियों की गिरफ्तारी में त्वरित कार्रवाई करने वाले लौकहा अोपी प्रभारी अखिलेश कुमार को पुरस्कृत किया जाएगा। प्रेस वार्ता के दौरान सदर डीएसपी विद्यासागर, सदर थानाध्यक्ष राजेश कुमार मंडल अन्य मौजूद थे।

तीनों गिरफ्तार का रहा है अापराधिक इतिहास

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार तीनों अपराधियों का आपराधिक इतिहास रहा है। जिसमें अभिजीत कुमार सिंह सहरसा थाना कांड संख्या 1270/18 हत्या व सदर थाना सुपौल कांड संख्या 464/19 में आर्म्स एक्ट के तहत आरोपी है। वहीं शिवम कुमार सहरसा थाना अंतर्गत लूटकांड और सहरसा जिले के ही बिहरा थाना अंतर्गत बरामद बम कांड में जेल की हवा खा चुका है। जबकि राकेश साह बिहरा थाना क्षेत्र में लूटकांड और शराब के मामले में जेल जा चुका है। अपराधियों के पास से एक देसी पिस्टल 7.65 एमएम का चार गोली, एक देसी कट्टा एवं 315 एमएम का तीन जिंदा कारतूस, लूटी गई मोबाइल, बैग, पर्स, पांच हजार रुपए, अपराधी द्वारा प्रयुक्त ब्लू रंग का अपाचे बाइक नंबर बीआर 19एल 2341, बिना नंबर के एक लाल रंग की अपाचे बाइक व तीन मोबाइल शामिल है।

अपराधियों में कानून का डर जरूरी : पुलिस अधीक्षक

अपराधियों को स्पीडी ट्रायल के तहत दिलाई जाएगी सजा

सिटी रिपोर्टर | सुपौल

एसपी मृत्युंजय कुमार चौधरी ने बताया कि जिले में कानून व्यवस्था स्थापित करने के लिए अब अपराधियों को स्पीडी ट्रायल के तहत सजा दिलाई जाएगी। उन्होंने बताया कि वर्ष 2019 में अब तक जिले के विभिन्न थानाें में दर्ज 63 कांडों में 150 लोगों को सजा दिलाई जा चुकी है। जिसमें हत्या मामले में 50, दुष्कर्म मामले में 2, अपहरण 2, दहेज हत्या 3 व पोक्सो एक्ट के तहत 2 को सजा दिलाने में पुलिस कामयाब रही है। उपरोक्त सभी मामले में दो को 20 वर्ष व अन्य सभी को आजीवन कारावास की सजा न्यायालय द्वारा सुनाई गई है। इसके अलावा 16 लोगों को 10 वर्ष से अधिक, 3 लोगों को 7 और 10 वर्ष के बीच, 24 को 2 से 6 वर्ष के बीच, 20 काे 2 वर्ष से कम व 28 को कोर्ट द्वारा दोषी पाए जाने के बाद फटकार लगाकर छोड़ा गया। एसपी ने बताया कि वर्ष 2019 में सबसे ज्यादा 13 सजा हत्या के मामले में दिलाई गई है। जिसमें 5 दहेज हत्या, 7 पॉक्सो एक्ट व 1 लूटकांड का मामला शामिल है। बताया कि शराब बंदी के बाद वर्ष 2019 अब तक सात मामलों में कोर्ट द्वारा सजा सुनाई गई है।

सजा के लिए त्वरित जांच और निष्पादन पर फोकस

एसपी ने बताया कि आपराधिक गतिविधियों पर नियंत्रण प्राप्त करने के लिए अब पुलिस सारा फोकस अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद उसे सजा दिलाने के लिए त्वरित जांच प्रक्रिया का निष्पादन करना है। उन्होंने बताया अपराध को रोकने के लिए यह जरुरी है कि अपराधियों को कानून का डर हो और इस तरह के आपराधिक वारदातों को रोकने के लिए अपराधियों में कानून का भय स्थापित करने के लिए उसे सजा दिलाने की आवश्यकता है। कहा कि पुलिस अपराध नियंत्रण के लिए जेल में बंद अपराधियों को काेर्ट से सजा दिलाने की दिशा में सफलता पूर्वक कार्य कर रही है।

ड्रेनेज कॉलोनी में शिक्षक के आवास से दो लाख की चोरी

कॉलोनी के क्वार्टर संख्या जी-3 में हुई घटना

सिटी रिपोर्टर | सुपौल

शहर के वार्ड-20 ड्रेनेज कॉलोनी में मंगलवार की रात अज्ञात चोरों ने एक घर को निशाना बनाया। सदर प्रखंड अंतर्गत कर्णपुर स्थित मध्य विद्यालय महेशपुर में पदस्थापित शिक्षक राणा संजीव कुमार कॉलोनी के क्वार्टर संख्या जी-3 में रहते हैं। गत शनिवार को ही वह परिवार सहित नागपंचमी की पूजा के लिए सहरसा के सौरबाजार प्रखंड अंतर्गत नादो स्थित अपने पैतृक घर गए थे। बुधवार की सुबह लौटने पर घर के आगे का दरवाजा बंद था, जबकि घर के अंदर सामान बिखरा पड़ा था और पीछे का दरवाजा टूटा था। खोजबीन करने पर एलईडी टीवी, कई कीमती जेवर सहित करीब 50 हजार रुपए से अधिक के कीमती कपड़े गायब थे। पीड़ित के अनुसार करीब 2 लाख के सामान की चोरी हुई है। बहरहाल पीड़ित द्वारा घटना की सूचना सदर थाना को दी गई है। सदर थानाध्यक्ष राजेश कुमार मंडल ने बताया कि आवेदन प्राप्त हुआ है, अग्रेतर कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि इससे पूर्व गत 20 जुलाई की रात भी कॉलोनी स्थित डीएम के निजी सचिव के आवास में चोरी हुई थी। फिलहाल जिस आवास में चोरी हुई है, वह जिला एवं सत्र न्यायाधीश के आवास से महज 100 मीटर की दूरी पर है।

छापेमारी में हुए प्राथमिकी अभियुक्त समेत दो लोग गिरफ्तार, भेजे गए जेल

सिटी रिपोर्टर |सरायगढ़ /भपटियाही

भपटियाही थाना कांड संख्या 72/19 के प्राथमिकी अभियुक्त भपटियाही के वार्ड-7 निवासी जय नारायण भदेशवार को पुलिस ने बुधवार की सुबह गिरफ्तार किया है।

भपटियाही थानाध्यक्ष प्रभाकर भारती ने बताया कि सूचक द्वारा तीन लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराया गया था। जिसमें थाना कांड के एक अभियुक्त जय नारायण भदेशवार को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत मे सुपौल जेल भेज दिया गया है।

वहीं दो अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु सघन छापेमारी की जा रही है। थानाध्यक्ष ने बताया कि सुपौल कोर्ट के वारंटी कल्याणपुर गांव के परमानंद मेहता को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

चोरी के बाद घर में बिखरा सामान।

खबरें और भी हैं...