पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जनता कर्फ्यू के दौरान घर में ही लोगों से रहने की अपील महिलाओं का धरना जारी

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सहरसा बस्ती के अमन चाैक पर सीएए, एनआरसी एवं एनपीआर के विरोध में मुस्लिम महिलाओं द्वारा 59 वें दिन जारी धरना पर कोरोना वायरस का कोई खौफ नहीं दिख रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश वासियाें से 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दौरान घर में ही रहने की अपील के बावजूद रविवार को भी मुस्लिम महिलाओं का धरना कार्यक्रम जारी रहेगा। धरना कार्यक्रम की संयोजक शबीना परवीन एवं नाजना खातून ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा लाया गये काला कानून के विरोध में रविवार को भी मुस्लिम महिलाओं का धरना जारी रहेगा। संयोजक नाजना खातून ने कहा कि बीमारी से डर नहीं है। कोरोना वायरस के संक्रमण से दस-बीस लोग मरेंगे, लेकिन सरकार द्वारा लाये गये कानून से हमारे बच्चों का भविष्य ही खत्म हो जाएगा। हम अपने हक के लिए यहां पर बैठे हैं। सरकार हमारा हक दे दे, हमलोग अपना धरना कार्यक्रम खत्म कर देंगे। हमे किसी कोरोना से डर नहीं है। हम अपने आनेवाले पीढी के लिए धरना पर बैठे हैं। मालूम हो कि सहरसा बस्ती के अमन चौक के समीप मधेपुरा जानेवाली मुख्य सड़क एनएच 107 के किनारे तीन पंडालों में मुस्लिम महिलाएं विगत 59 दिनों से धरने पर बैठी हैं।

धरना पर बैठी मुस्लिम महिला।
खबरें और भी हैं...