बदहाल व्यवस्था विद्यालय परिसर में बालू, गिट्टी रखकर अतिक्रमण कर रहे लाेग

Samstipur News - प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय खेड़वंन में संसाधनों के घोर अभाव के बीच विद्यालय में बच्चों को किसी तरह शिक्षा प्रदान...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:50 AM IST
Khanpur News - badhal arrangements in the school campus keeping sand ballast and encroaching them
प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय खेड़वंन में संसाधनों के घोर अभाव के बीच विद्यालय में बच्चों को किसी तरह शिक्षा प्रदान करने की कोशिश की जा रही है। नए भवन बनने के बाद भी विद्यालय में समस्या व्याप्त है। महज एक कमरे में आज भी कक्षा एक से पांच तक के 52 बच्चे अपना भविष्य गढ़ने को मजबूर हैं। हालांकि कहने को तो दो कमरे हैं लेकिन पढ़ाई एक कमरे में होती है। बताया गया कि कमरों व शिक्षकों के अभाव के कारण बच्चों की संयुक्त क्लास ली जाती है। इसकी जिम्मेवारी महज दो शिक्षकों के कंधे पर है। एक एचएम व एक सहायक शिक्षिका विद्यालय में कार्यरत हैं। लेकिन समय-समय पर होने वाली विभागीय मीटिंग के कारण एचएम हमेशा व्यस्त रहते हैं। ऐसी स्थिति में एक शिक्षिका के जिम्मे सभी बच्चों का भार रहता है।

एक कमरे में 5 कक्षाओं की चलती है संयुक्त क्लास, छात्राें के भविष्य पर लग रहा ग्रहण, दो शिक्षकों के कंधों पर 52 बच्चों के भविष्य की बागडोर

बाउंड्रीवाल नहीं रहने से लोग विद्यालय परिसर में रखते हैं गिट्टी, बालू

नए भवन बनने के बाद भी विद्यालय में बाउंड्रीवाल नहीं बनाई गई है। जिस कारण स्थानीय कुछ लोग विद्यालय परिसर में ही गिट्टी, बालू, जलावन रखकर अतिक्रमण कर रखा है। विद्यालय परिसर में मिट्टीकरण कर बाउंड्रीवाल कर दी जाएगी तो विद्यालय सुरक्षित भी रहेगा।

मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना से बना विद्यालय, लेकिन शौचालय नहीं

मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजनांतर्गत 10 लाख 27 हजार 300 रुपए की लागत से बनने वाले दो कमरे के पक्का मकान के निर्माण के लिए विगत 6 फरवरी 2018 को नींव रखी गई थी। विधायक अशोक कुमार मुन्ना के द्वारा इसका विधिवत शिलान्यास किया था। विद्यालय भवन का निर्माण कार्य सम्पन्न होने के बाद मई 2019 में विद्यालय को नए भवन में शिफ्ट कर दिया गया। लेकिन यहां न तो शौचालय का निर्माण किया गया और न ही किचेन शेड बनाया गया। इससे खुले आसमान के नीचे शौच करने पर मजबूर होना पड़ता है।

झोपड़ी में शुरू हुआ था विद्यालय का संचालन अब पक्का मकान के बाद भी बनी है समस्या

बताया गया कि प्राथमिक विद्यालय खेड़वंन की शुरूआत वर्ष 2007 में हुई थी। उस समय विद्यालय गांव के एक निजी दरवाजे पर चल रही थी। 5 वर्षों तक निजी दरवाजे पर किसी तरह विद्यालय का संचालन हाेता रहा। भवन विहीन विद्यालय को दूसरे विद्यालय में शिफ्ट करने के सरकारी आदेश के बाद इस विद्यालय को वर्ष 2012 में मध्य विद्यालय सादीपुर में शिफ्ट कर दिया गया। करीब 7 साल विद्यालय यहां संचालित हाेता रहा। इस बीच खेड़वंन गांव में ही दो कमरे वाले पक्के मकान का निर्माण किया गया। इसके बाद विद्यालय को मई 2019 में फिर गांव के इस नवनिर्मित भवन में शिफ्ट कर दिया गया। लेकिन समस्या से विद्यालय को निजात नहीं मिली। हल्की बारिश होने के बाद विद्यालय परिसर कीचड़मय हो जाता है।

कहते हैं एचएम


X
Khanpur News - badhal arrangements in the school campus keeping sand ballast and encroaching them
COMMENT