पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Samastipur News Fire Broke Out In The Gayani Ward Of Sadar Hospital 40 Women Patients Escaped Saved Lives Burnt Evidence Of Fraud In Drug Sales

सदर अस्पताल के गायनी वार्ड में लगी आग, 40 महिला मरीजों ने भागकर बचाई जान, दवा बिक्री में फर्जीवाड़े के सबूत भी जले

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल के गायनी वार्ड में बुधवार सुबह छह बजे आग लग जाने से गायनी वार्ड के अलावा वार्ड के सामने स्थित दवा का स्टोर रूम राख हो गया। इस दौरान वार्ड में भर्ती करीब 40 महिला मरीजों व उनके परिजनों ने भाग कर जान बचाई। घटना की सूचना पर सिविल सर्जन डॉ. सियाराम मिश्रा अस्पताल पहुंचे। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीएम चंद्रशेखर सिंह ने सिविल सर्जन को दो दिनों के अंदर जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है। सुबह करीब छह बजे गायनी वार्ड की एसी से अचानक चिंगारी निकली जिससे पूरे वार्ड में आग फैल गई। वार्ड का बेड आदि जलने लगा। वार्ड में धुआं भर जाने के कारण अफरातफरी मच गई। अगलगी में अस्पताल के गायनी विभाग से जुड़ी कई संचिकाएं भी जल कर राख हो गई।

मामले की गंभीरता को देखते हुए डीएम ने दो दिनों में सीएस को जांच कर रिपोर्ट देने को कहा

स्ट्रेचर पर मरीज को लेकर भागते परिजन।

अगलगी की घटना के पीछे साजिश से भी नहीं किया जा सकता इनकार

गायनी वार्ड व दवा स्टोर रूम में अगलगी की घटना को साजिश से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। गायनी वार्ड में दवा व प्रोत्साहन राशि को लेकर बड़ा खेल चल रहा है जिसका सबूत मिटाने के लिए अगलगी का नाटक किया गया है। चर्चा यह भी है कि हॉस्पिटल की दवा बाजार के कई दुकानों में बिकती है। घोटला को दबाने के लिए अाग लगाई गई है। हालांकि सीएस डॉ. सियाराम मिश्रा शॉर्ट सर्किट से घटना का होना बता रहे हैं। कहा कि सभी दवाओं का स्टॉक मिलान किया जा रहा है।

तीन घंटे बाद आग पर पाया काबू

सदर अस्पताल में अगलगी की सूचना पर दमकल टीम भी मौके पर पहुंच गई। दमकल कर्मियों ने करीब तीन घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इस दौरान आग बूझाने में अस्पताल के कर्मी ने भी अह्म भूमिका निभाई। लोगों ने बताया कि घटना अगर रात में होती तो बड़ी घटना हो सकती थी।

अगलगी से पूर्व चल रहा था ऑपरेशन

अगलगी की घटना से कुछ देर पहले ही एक महिला का ऑपरेशन के जरिये प्रसव कराया गया था। अगर घटना ऑपरेशन के दौरान होती तो कुछ भी संभव था। अगलगी के दौरान मरीज के परिजन महिला को स्टेचर पर लेकर भागे। गायनी वार्ड के मरीजों को नशा मुक्ति आदि वार्डों में शिफ्ट किया गया है।

खबरें और भी हैं...