जयपुर से मुक्त 28 बाल श्रमिक पहुंचे बालगृह, 12 बच्चों को लाने की प्रक्रिया

Samstipur News - बालगृह में रखे गए बच्चों को उनके अभिभावकों को किया जाएगा सुपुर्द

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:21 AM IST
Sarayranjan News - procurement of fetus 12 children coming to 28 child labor free from jaipur
बालगृह में रखे गए बच्चों को उनके अभिभावकों को किया जाएगा सुपुर्द



सिटी रिपोर्टर | समस्तीपुर

राजस्थान के जयपुर से मुक्त कराए गए जिले के 28 बच्चे प्रथम चरण में गुरुवार देर रात बालगृह सकुशल पहुंच गए। वहीं द्वितीय चरण में 12 बच्चों को लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इन बाल श्रमिकों को राजस्थान व बिहार सरकार के संयुक्त प्रयासों से जयपुर के अलग-अलग उद्याेगों से 16 मई को मुक्त कराया गया था।

प्रथम चरण में 28 बच्चों काे बालगृह में आश्रय व सुरक्षा के लिए पहुंचा दिया गया है। इन बच्चों को सरकारी नियमानुसार कानूनी तथा कागजी प्रक्रिया के तहत उनके अभिभावकों को सुपुर्द किया जाएगा। जिले के कल्याणपुर, वारिसनगर, उजियारपुर, समस्तीपुर, पटोरी, सरायरंजन, सिंघिया, विभूतिपुर, मोहिउद्दीनगर आदि प्रखंडांे इन बच्चों को राजस्थान में कार्य से मुक्त कराने के साथ ही प्रयास संस्था की ओर से बच्चों को सत्यापित कर पहचान करने के बाद जिले के बालगृह में लाया जा रहा है। सभी बच्चों को उनके अभिभावकों को सकुशल सौंप दिया जाएगा। बताया जाता है कि इन बाल श्रमिकों काे विगत 16 मई को अभियान चलाकर जयपुर के विभिन्न उद्योगों से काम से मुक्त कराया गया था। प्रयास जुवेनाइल एंड सेंटर द्वारा संचालित बालगृह में इन बच्चों को आश्रय व सुरक्षा के लिए रखा गया है। टीम अब इसमें आगे की कार्रवाई में लगी है।

इन बच्चों में रोसड़ा के एक ही परिवार के तीन भाई हैं

समस्तीपुर | राजस्थान के जयपुर में लहठी उद्योग में लगे मुक्त कराए गए 190 बच्चों में से 28 बच्चे समस्तीपुर के हैं। शुक्रवार को समस्तीपुर पहुंचे सभी बच्चों की सदर अस्पताल में मेडिकल जांच करार्इ गर्इ। बच्चों ने बताया कि सभी को एक सेठ नामक व्यक्ति अच्छी पगार दिलाने के नाम पर बहला फूसलाकर जयपुर ले गया था। बच्चों को जयपुर ले जाकर बताया गया है सभी को पहले ट्रेनिंग दी जाएगी। इस दौरान एक हजार रुपए महीना मिलेगा। काम सीखने के बाद 3 हजार रुपए दिया जाएगा। लेकिन गत तीन महीने से बच्चों को रूम में बंद कर काम कराया जा रहा था, लेकिन एक भी रुपए नहीं दिया गया। मुक्त सभी बच्चों की उम्र 5 से 12 वर्ष के बीच का है। बच्चों को प्रयास नामक सामाजिक संगठन के माध्यम से परिजनों के पास पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। सभी बच्चे काफी गरीब परिवार से हैं। बरामद बच्चों में रोसड़ा निवासी एक ही परिवार के तीन भाई शामिल हैं।

सभी बच्चों का सदर अस्पताल में कराया गया उपचार


X
Sarayranjan News - procurement of fetus 12 children coming to 28 child labor free from jaipur
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना