पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Samastipur News The Marchers Pulled Out A Protest March Over Unpaid Wages

रसाेइयों ने बकाया वेतन भुगतान को लेकर निकाला प्रतिरोध मार्च

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार राज्य मिड-डे-मिल वर्कर्स यूनियन सीटू से संबद्ध जिला कमेटी के बैनर तले शनिवार को रसोईयों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर महासंघ कार्यालय से प्रतिरोध मार्च निकालकर आवाज बुलंद किया। इसकी अध्यक्षता कुमारी पूजा ने की।
इस अवसर पर रसोईयों ने चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी घोषित करने, 18 हजार वेतन देने, बकाया मानदेय का भुगतान करने, शिक्षक नेता शाहजफर इमाम व अन्य
शिक्षकों का निलंबन वापस लेने, हड़ताली शिक्षकों से सम्मानजनक वार्ता करने सहित अन्य मांगों को लेकर नारेबाजी की गई।
मौके पर जिलाध्यक्ष रघुनाथ
राय, किसान नेता सत्यनारायण सिंह, धर्मेश कुमार, पूनम देवी, गुलाब देवी, सरस्वती देवी, अमला देवी, बिमल देवी, मीरा देवी, विभा देवी, सुनीता
देवी, रेणू देवी, रानी देवी, शिला देवी, जानकी देवी सहित अन्य मौजूद थे।

इधर, माले नेता की गिरफ्तारी के खिलाफ निकाला प्रतिरोध मार्च

समस्तीपुर | नागरिकता कानून के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भाकपा माले के उजियारपुर प्रखण्ड सचिव महावीर पोद्दार की उजियारपुर थाना कांड के मामले में पुलिस द्वारा की गई गिरफ्तारी के खिलाफ शनिवार को शहर के मालगोदाम चौक पर माले कार्यकर्ताओं ने जुटकर अपने-अपने हाथों में मांगों से संबंधित नारे लिखे तख्तियां, झंडे, बैनर लेकर प्रतिरोध मार्च निकाला गया। प्रतिरोध मार्च के दौरान कार्यकर्ता पुलिस जुल्म एवं मनमानी के विरोध में नारे लगा रहे थे। बाजार क्षेत्र का भ्रमण करने के बाद मार्च पहुंचकर स्टेशन चौक पर सभा में तब्दील हो गई। अध्यक्षता जिला कमेटी सदस्य जीबछ पासवान ने करते हुए कहा कि देश में नागरिकता कानून के खिलाफ भाकपा माले की लड़ाई को कमजोर करने के उद्देश्य माले नेताओं को गिरफ्तार किया जा रहा है। बावजूद इसके दलित-गरीब के घर उजाड़ी, नागरिकता कानून आदि के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि अपराधियों, शराब कारोबारियों को थाना पर शांति समिति की बैठक में बुलाई जाती है, थाना पर उन्हें बैठाकर चाय पिलाया जाता है लेकिन गरीबों के लिए लड़ने वाले माले नेताओं को पुलिस चुपके से मुकदमा को ट्रू कर जेल भेजती है। इस जुल्म को बढ़ाबा देने वाली सुशासन की सरकार एवं इसके पुलिस प्रशासन के खिलाफ संघर्ष जारी रहेगा। मौके पर फूल बाबू सिंह, फूलेंद्र प्रसाद सिंह, उपेंद्र राय, गंगा प्रसाद पासवान आदि थे।

गरीबों का घर उजाड़ रही है सरकार

सीटू जिला मंत्री मनोज कुमार गुप्ता ने राज्य व केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि रसोईयों को वेतन नहीं मिल रहा है। शिक्षा व रोजगार चौपट है। उन्होंने कहा कि एक तरफ जहां राज्य सरकार गरीबों का घर उजाड़ रहा है तो केंद्र सरकार धर्म के आधार पर देश को तोड़ना चाहती है। मगर इनके मंसूबे को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। इसके खिलाफ जनआंदोलन तेज किया जाएगा।

प्रतिरोध मार्च में मांगांे के समर्थन में नारेबाजी करते रसाइयां
खबरें और भी हैं...