पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

युवक की हत्या कर ट्रैक पर फेंका शव

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रेम प्रसंग में हत्या कर शव को फेंके जाने की लोगों के बीच चर्चा

गया डीडीयू रेल खण्ड पर सासाराम जंक्शन से 3 किलोमीटर पूरब दिशा में अमरी रेलवे क्रॉसिंग के समीप डाउन लाइन में एक अठारह वर्षीय युवक की हत्या कर साक्ष्य छुपाने के लिए शव रेलवे ट्रैक पर फेंक दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। मृतक युवक की पहचान अमरी टोला निवासी करीमन प्रसाद का पुत्र अठारह वर्षीय बादल कुमार के रूप में हुई है। हालांकि मृतक युवक के घर वालो को जैसे ही रेलवे ट्रैक पर शव फेंके जाने की जानकारी हुई। मृतक के परिजन उक्त स्थल पर पहुंचकर युवक के शव को लेकर भागने में सफल हो गए। इस संबंध में पूछे जाने पर जीआरपी थानाध्यक्ष लल्लू सिंह ने बताया कि युवक की हत्या कर साक्ष्य को छुपाने के लिए इस तरह के वारदात को अंजाम दिया गया है। रेलवे ट्रैक पर हत्या कर फेंके गए युवक के शरीर पर कहीं से भी ट्रेन से कटने या ट्रेन से गिरकर हुई मौत का निशान नहीं है। यह मामला मुफस्सिल थाना क्षेत्र के इलाके से संबंधित घटना है। इस घटना को रेलवे से जोड़कर नहीं देखा जा सकता।

जीआरपी पहुंची तो नहीं था वहां शव

अमरी टोला निवासी अठारह वर्षीय बादल कुमार की मौत से पर्दा नही हटा है। परिजन युवक की हत्या पर बोलने से बच रहे हैं। हालांकि सूत्रों से जानकारी मिली है कि युवक की हत्या प्रेम प्रसंग से भी जुड़ा होने की संभावना जताई जा रही है। युवक की मौत फिलहाल पहेली बनकर रह गया है। जीआरपी पुलिस टीम रेल ट्रैक पर युवक के शव को नही मिलने की भी पुष्टि की है। जीआरपी थानाध्यक्ष यह बताते हैं कि पहले ये सूचना मुफस्सिल थाना के थानाध्यक्ष राकेश कुमार के ही द्वारा दी गई थी। जब जीआरपी पहुंची तो वहां कुछ भी नही मिला।


थाने को दी सूचना

शनिवार की सुबह मोबाइल पर सूचना मिली कि रेल ट्रैक पर एक युवक का शव है। तो मैंने जीआरपी को जानकारी दे दी। युवक के बारे में जानकारी ली गई तो पता चला कि मृतक युवक के शव को लेकर परिजन भाग गए थे। जानकारी के मुताबिक सर को काटने के निशान थे। मौत कैसे हुई, जांच का विषय है।
राकेश कुमार, थानाध्यक्ष मुफस्सिल थाना

खबरें और भी हैं...