पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांवों में पशु चिकित्सालय खोलने की मांग

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नौहट्टा| कैमूर पहाड़ी के ऊपर बसे गांवों में पशु चिकित्सालय नहीं रहने के कारण ग्रामीणों को घोर कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है । चेनारी के विधायक ललन पासवान ने रोहतास एवम कैमर दो जिला मिला कर एक भी पशु अस्पताल नहीं रहने पर नाराजगी व्यक्त किया है । श्री पासवान ने राज्य के पशुपालन मंत्री पशुपति कुमार पारस से कहा है कि कैमूर पहाड़ी के ऊपर 225 गांवो बसे हुए हैं। जहां पशुओं की संख्या लाखों में है। पहाड़ी गांवो के ग्रामीणों की आजीविका का मुख्य साधन पशुपालन ही है। ऐसे में पशुओं के लिए अस्पताल नहीं होना चिंता का विषय है। श्री पासवान ने इस मामले को बिहार विधान मंडल में तारांकित प्रश्न के रूप में उठाया था। जिसपर विभागीय मंत्री ने अपने उतर में कहा था कि जमीन उपलब्ध होने पर अस्पताल खोलवाया जाएगा। परन्तु सदन में मंत्री की घोषणा के बाद भी पहाड़ी गांवों में पशुचिकित्सालय नहीं खोला गया है।

खबरें और भी हैं...